Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2023 · 2 min read

काँच और पत्थर

पल्लू में उसके
बंधे रहते हैं
अनगिनत पत्थर,
छोटे-बड़े बेडौल पत्थर
मार देती है किसी को भी
वो ये पत्थर।
उस दिन भी उसके पल्लू में
बंधे हुए थे
ऐसे ही कुछ पत्थर।
कोहराम मचा दिया था
उस दिन उसने
रेलवे-स्टेशन पर।
उन पत्थरों से उसने
अचानक तोड़ दिए थे
चार-पाँच छोटे-बड़े काँच
और फूट गए थे
दो-एक के सिर।
छोड़ो-
जाने दो उसे
‘है वो विक्षिप्त’
कर दिया गया उसे माफ़
यह कहकर,
गुनाह जो उसने किये
आज रेलवे स्टेशन पर।
हट गए थे
उसके रास्ते से
कुछ लोग डरकर,
और कुछ लोग
हँस रहे थे ऐसे
जैसे कोई भैंस रम्भाये
खींसें निपोरकर।
पर नहीं मालूम ये
किसी को भी कि
चुभी हुई है ये काँच
उसके गले में
बनकर एक फाँस,
और चस्पा हैं
अनगिनत सिसकियाँ
अभी भी उसके
विवश, असहाय
घायल मन पर।
काँच से ज्यादा
उसकी फाँस
करती थी घुटन
और होती थी पैदा
इस तरह जो चुभन,
वो जाती थी बाहर
सिसकियों पर चढ़कर।
काँच के टूटने पर
छपाक की आवाज पर
काँच का फ़ैल जाना
बिखरकर,
दे जाता है उसे
दिलासा पल भर।
इसीलिए,
जब वो देखती है
खिड़कियाँ और
उनसे आर-पार
देखने वाले काँच,
तो उसके
पल्लू में समाए पत्थर
बरस पड़ते हैं,
अनायास ही
उस काँच पर-
किसी भी
रेलवे स्टेशन पर।
‘वो है विक्षिप्त’
इसलिए शायद,
लोगों को लगता है एक डर
उसके समीप जाने पर,
और माफ़ कर दिए जाते हैं
अपराध उसके
चाहे वो यदा-कदा
क्यों न फोड़ दे
दो-एक के सिर।
पर वो कैसे माफ़ कर दे?
किसको दे क्षमादान?
उन गुनाहों पर-
जो हुए उसके साथ
चंद रोज़ पहले,
या महीनों या साल पहले
ऐसे ही किसी
रेलवे स्टेशन पर,
जिसकी वजह से वो
कहलाती है आज विक्षिप्त।
क्यों नहीं मचाया था शोर
क्यों नहीं चिल्लाया था ये
क्यों नहीं बोला था ये मूक काँच?
चाहे छोटी सी छनाक ही सही,
तब शायद
उसके पल्लू में
नहीं थे पत्थर, और
वो थी अकेली
किसी रेलवे स्टेशन पर।

(c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव “नील पदम्”

Language: Hindi
5 Likes · 249 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
कर ले प्यार
कर ले प्यार
Satish Srijan
चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
Sanjay ' शून्य'
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
सत्य कुमार प्रेमी
चुभे  खार  सोना  गँवारा किया
चुभे खार सोना गँवारा किया
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अफसोस-कर्मण्य
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
✍️मातम और सोग है...!✍️
✍️मातम और सोग है...!✍️
'अशांत' शेखर
एक समझदार व्यक्ति द्वारा रिश्तों के निर्वहन में अचानक शिथिल
एक समझदार व्यक्ति द्वारा रिश्तों के निर्वहन में अचानक शिथिल
Paras Nath Jha
किस लिए पास चले आए अदा किसकी थी
किस लिए पास चले आए अदा किसकी थी
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
Yogini kajol Pathak
जय जय भारत देश महान......
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
विभाजन की पीड़ा
विभाजन की पीड़ा
ओनिका सेतिया 'अनु '
💐प्रेम कौतुक-371💐
💐प्रेम कौतुक-371💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
** थोड़े मे **
** थोड़े मे **
Swami Ganganiya
शहीद (कुंडलिया)
शहीद (कुंडलिया)
Ravi Prakash
जिंदगी तो धोखा है।
जिंदगी तो धोखा है।
Taj Mohammad
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
थोड़ी दुश्वारियां ही भली, या रब मेरे,
थोड़ी दुश्वारियां ही भली, या रब मेरे,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जातिगत आरक्षण
जातिगत आरक्षण
Shekhar Chandra Mitra
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
Dr MusafiR BaithA
ख़्वाहिशों का कोई
ख़्वाहिशों का कोई
Dr fauzia Naseem shad
राजनीति
राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
युद्ध के उन्माद में है
युद्ध के उन्माद में है
Shivkumar Bilagrami
■ कटाक्ष
■ कटाक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
सोई गहरी नींदों में
सोई गहरी नींदों में
Anju ( Ojhal )
#छंद के लक्षण एवं प्रकार
#छंद के लक्षण एवं प्रकार
आर.एस. 'प्रीतम'
इश्क एक बिमारी है तो दवाई क्यू नही
इश्क एक बिमारी है तो दवाई क्यू नही
Anurag pandey
🔥वक्त🔥
🔥वक्त🔥
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
तेरे बग़ैर ये ज़िंदगी अब
तेरे बग़ैर ये ज़िंदगी अब
Aksharjeet Ingole
Loading...