Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jan 2023 · 1 min read

क़ौमी यकजहती

अगर यह बर्बाद हुआ
तो सभी होंगे बर्बाद!
अगर यह आबाद हुआ
तो सभी होंगे आबाद!
क्यों नहीं मिल-जुलकर
हम रखें इसकी बुनियाद!
सभी का है यह मुल्क
सभी का है यह समाज!
#कविता #शायरी #poetry
#फनकार #सिनेमा #politics
#सियासत #हक़ #राजनीति
#अधिकार #इंसाफ #न्याय
#लेखक #पत्रकार #बुद्धिजीवी

Language: Hindi
Tag: कविता
32 Views
You may also like:
प्रश्न
प्रश्न
विजय कुमार 'विजय'
ग्रहण
ग्रहण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रकाश से हम सब झिलमिल करते हैं।
प्रकाश से हम सब झिलमिल करते हैं।
Taj Mohammad
💐 Prodigy Love-27💐
💐 Prodigy Love-27💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जब कोई साथी साथ नहीं हो
जब कोई साथी साथ नहीं हो
gurudeenverma198
कौन पहचान खुद को पाता है
कौन पहचान खुद को पाता है
Dr fauzia Naseem shad
हाँ बहुत प्रेम करती हूँ तुम्हें
हाँ बहुत प्रेम करती हूँ तुम्हें
Saraswati Bajpai
बाल हैं सौंदर्य मनुज का, सबके मन को भाते हैं।
बाल हैं सौंदर्य मनुज का, सबके मन को भाते हैं।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️कुछ दबी अनकही सी बात
✍️कुछ दबी अनकही सी बात
'अशांत' शेखर
तुझसे बिछड़ने के बाद
तुझसे बिछड़ने के बाद
Surinder blackpen
संत साईं बाबा
संत साईं बाबा
Pravesh Shinde
■ कैसे हो भरोसा?
■ कैसे हो भरोसा?
*Author प्रणय प्रभात*
वक्त के हाथों मजबूर सभी होते है
वक्त के हाथों मजबूर सभी होते है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
अब भी दुनिया का सबसे कठिन विषय
अब भी दुनिया का सबसे कठिन विषय "प्रेम" ही है
DEVESH KUMAR PANDEY
मेरे दिल की धड़कनों को बढ़ाते हो किस लिए।
मेरे दिल की धड़कनों को बढ़ाते हो किस लिए।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आज का आम आदमी
आज का आम आदमी
Shyam Sundar Subramanian
माँ बहन बेटी के मांनिद
माँ बहन बेटी के मांनिद
Satish Srijan
बदला हुआ ज़माना है
बदला हुआ ज़माना है
Dr. Sunita Singh
अनूठी दुनिया
अनूठी दुनिया
AMRESH KUMAR VERMA
सौ बात की एक
सौ बात की एक
Dr.sima
आज तो ठान लिया है
आज तो ठान लिया है
shabina. Naaz
ब्राउनी (पिटबुल डॉग) की पीड़ा
ब्राउनी (पिटबुल डॉग) की पीड़ा
ओनिका सेतिया 'अनु '
दीवानी मीरा
दीवानी मीरा
Shekhar Chandra Mitra
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
Jindagi ka safar bada nirala hai ,
Jindagi ka safar bada nirala hai ,
Sakshi Tripathi
"Hope is the spark that ignites the fire of possibility,...
Manisha Manjari
ख़ामुश हुई ख़्वाहिशें - नज़्म
ख़ामुश हुई ख़्वाहिशें - नज़्म
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
दूर निकल आया हूँ खुद से
दूर निकल आया हूँ खुद से
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
*वेद उपनिषद रामायण,गीता में काव्य समाया है (हिंदी गजल/ गीतिक
*वेद उपनिषद रामायण,गीता में काव्य समाया है (हिंदी गजल/ गीतिक
Ravi Prakash
244.
244. "प्यारी बातें"
MSW Sunil SainiCENA
Loading...