Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2020 · 1 min read

कहो तुझे क्या कहूँ?

तुझे क्या कहूं
बीमारी कहूं कि बहार कहूं
पीड़ा कहूं कि त्यौहार कहूं
संतुलन कहूं कि संहार कहूं

कहो तुझे क्या कहूं
मानव जो उदंड था
पाप का प्रचंड था
सामर्थ्य का घमंड था
प्रकृति को करता खंड खंड था

नदियां सारी त्रस्त थी
सड़के सारी व्यस्त थी
जंगलों में आग थी
हवाओं में राख थी

कोलाहल का स्वर था
खतरे मे हर जीवो का घर था
फिर अचानक तू आई
मृत्यु का खौफ लाई

मानवों को डराई
विज्ञान भी घबराई
लोग यूं मरने लगे
खुद को घरों में भरने लगे

इच्छाओं को सीमित करने लगे
प्रकृति से डरने लगे
अब लोग सारे बंद है
नदिया स्वच्छंद है

हवाओं में सुगंध है
वनों में आनंद है
जीव सारे मस्त हैं
वातावरण भी स्वस्थ है

पक्षी स्वरों में गा रहे
तितलियां इतरा रही
अब तुम ही कहो तुझे क्या कहूं
बीमारी कहूं कि बहार कहूं

पीड़ा कहूं कि त्यौहार कहूं
संतुलन कहूं कि संहार कहूं

कहो तुझे क्या कहूं…..

Language: Hindi
Tag: कविता
3 Likes · 352 Views
You may also like:
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये...
Manisha Manjari
है नारी तुम महान , त्याग की तुम मूरत
है नारी तुम महान , त्याग की तुम मूरत
श्याम सिंह बिष्ट
निकल गया सो निकल गया
निकल गया सो निकल गया
Taran Singh Verma
वो बचपन की बातें
वो बचपन की बातें
Shyam Singh Lodhi (LR)
■ उत्सवी सप्ताह....
■ उत्सवी सप्ताह....
*Author प्रणय प्रभात*
मुझकोमालूम नहीं था
मुझकोमालूम नहीं था
gurudeenverma198
लश्क़र देखो
लश्क़र देखो
Dr. Sunita Singh
दीपावली २०२२ की हार्दिक शुभकामनाएं
दीपावली २०२२ की हार्दिक शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अन्तिम करवट
अन्तिम करवट
Prakash juyal 'मुकेश'
शीर्षक:
शीर्षक: "मैं तेरे शहर आ भी जाऊं तो"
MSW Sunil SainiCENA
దీపావళి జ్యోతులు
దీపావళి జ్యోతులు
विजय कुमार 'विजय'
उजड़ी हुई बगिया
उजड़ी हुई बगिया
Shekhar Chandra Mitra
ठंडी क्या आफत है भाई
ठंडी क्या आफत है भाई
AJAY AMITABH SUMAN
हमारी आंखों में
हमारी आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
ग़म का सागर
ग़म का सागर
Surinder blackpen
*भाई-दूज कह रहा पावन प्रसंग आज (घनाक्षरी)*
*भाई-दूज कह रहा पावन प्रसंग आज (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग९]
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग९]
Anamika Singh
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💐परिवारे मातु: च भागिन्या: च धर्म:💐
💐परिवारे मातु: च भागिन्या: च धर्म:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Writing Challenge- ईर्ष्या (Envy)
Writing Challenge- ईर्ष्या (Envy)
Sahityapedia
★बदला★
★बदला★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
कविता
कविता
ashok dard
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
Buddha Prakash
नाहक करे मलाल....
नाहक करे मलाल....
डॉ.सीमा अग्रवाल
नींद आए तो सोना नहीं है
नींद आए तो सोना नहीं है
कवि दीपक बवेजा
गाँव के दुलारे
गाँव के दुलारे
जय लगन कुमार हैप्पी
बाईस फरवरी बाइस।
बाईस फरवरी बाइस।
Satish Srijan
✍️किसी रूठे यार के लिए...
✍️किसी रूठे यार के लिए...
'अशांत' शेखर
परवाना ।
परवाना ।
Anil Mishra Prahari
आनी इक दिन मौत है।
आनी इक दिन मौत है।
Taj Mohammad
Loading...