Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 11, 2016 · 1 min read

कहीं पे कियूं बूंद बूंद को तरसता है आदमी

कहीं पे कियूं बूँद बूँद को तरसता है आदमी
कहीं पे कियूं पानी पानी भी होता है आदमी
**********************************
कहीं पे पड़ता है कियूं समन्दर भी कम उसे
कहीं कियूं चुल्लू भर पानी में डूबता है आदमी
***********************************
कपिल कुमार
12/11/2016

83 Views
You may also like:
एक संकल्प
Aditya Prakash
मोहब्बत ही आजकल कम हैं
Dr.sima
बदनाम दिल बेचारा है
Taj Mohammad
'विनाश' के बाद 'समझौता'... क्या फायदा..?
Dr. Alpa H. Amin
बेपनाह गम था।
Taj Mohammad
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
*सारथी बनकर केशव आओ (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
प्रेयसी
Dr. Sunita Singh
मजदूर बिना विकास असंभव ..( मजदूर दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
मैं आखिरी सफर पे हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
वो कली मासूम
सूर्यकांत द्विवेदी
तिलका छंद "युद्ध"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
दिल मे कौन रहता है..?
N.ksahu0007@writer
इन्सानों का ये लालच तो देखिए।
Taj Mohammad
❤ अब कहीं मन नहीं लगता उसके बगैर, यॉर... कोई...
Ravi Malviya
शीतल पेय
श्री रमण
💐💐प्रेम की राह पर-10💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
एक ख़्वाब।
Taj Mohammad
तेरे हाथों में जिन्दगानियां
DESH RAJ
कहाँ चले गए
Taran Verma
✍️सुकून✍️
"अशांत" शेखर
नभ के दोनों छोर निलय में –नवगीत
रकमिश सुल्तानपुरी
✍️✍️ओढ✍️✍️
"अशांत" शेखर
मौत ने कुछ बिगाड़ा नहीं
अरशद रसूल /Arshad Rasool
पनघट और मरघट में अन्तर
Ram Krishan Rastogi
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
पारिवारिक बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...