कहीं कुछ भी नही है

सब कुछ है धोखा कुछ कहीं नही है
है हर कोई खोया ये मुझको यकीं है
ना है आसमां ना ही कोई ज़मीं है
दिखता है झूठ है हक़ीकत नही है||

उपर है गगन पर क्यो उसकी छावं नही है?
है सबको यहाँ दर्द मगर क्यो घाव नही है?
मै भी सो रहा हूँ, तू भी सो रहा है
ये दिवा स्वपन ही और कुछ भी नही है||

मैने बनाया ईश्वर, तूने भी खुदा बनाया
दोनो का नाम लेकर खुद को है मिटाया
क्या उतनी दूर है, उनको दिखता नही है
ये कहीं और होगे ज़मीन पर नही है||

एक बूँद आँखो से, दूसरी आसमां से
हसाते रुलाते दोनो आकर गिरी है
दोनो की मंज़िल, बस ये ज़मीं है
पानी है पानी और कुछ भी नही है ||

1 Like · 1 Comment · 142 Views
You may also like:
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
*!* अपनी यारी बेमिसाल *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जीवन इनका भी है
Anamika Singh
चिड़ियाँ
Anamika Singh
लाचार बूढ़ा बाप
The jaswant Lakhara
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
मां का आंचल
VINOD KUMAR CHAUHAN
मोहब्बत में।
Taj Mohammad
बेकार ही रंग लिए।
Taj Mohammad
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तेरी आरज़ू, तेरी वफ़ा
VINOD KUMAR CHAUHAN
कर्ज
Vikas Sharma'Shivaaya'
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐💐💐न पूछो हाल मेरा तुम,मेरा दिल ही दुखाओगे💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग६]
Anamika Singh
अश्रु देकर खुद दिल बहलाऊं अरे मैं ऐसा इंसान नहीं
VINOD KUMAR CHAUHAN
कितनी पीड़ा कितने भागीरथी
सूर्यकांत द्विवेदी
आइसक्रीम लुभाए
Buddha Prakash
ज़रा सामने बैठो।
Taj Mohammad
रसीला आम
Buddha Prakash
राम काज में निरत निरंतर अंतस में सियाराम हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
मौलिक विचार
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
निद्रा
Vikas Sharma'Shivaaya'
श्रमिक
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
पिता बना हूं।
Taj Mohammad
बेटी का संदेश
Anamika Singh
वह खूब रोए।
Taj Mohammad
Loading...