Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Sep 1, 2016 · 1 min read

कहीँ में रख लूँ इस दिल को छुपा के,

कहीँ में रख लूँ इस दिल को छुपा के,
कुछ ऐसा लग रहा है तुझसे नजरें मिलाके!
गर हो गयी मुहब्बत तो कह भी न सकूँगा,
दर्द तेरा ले जाये न इस दिल को चुरा के..!
Yashvardhan Goel

109 Views
You may also like:
रामपुर का इतिहास (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
धीरता संग रखो धैर्य
Dr. Alpa H. Amin
प्रदीप : श्री दिवाकर राही का हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
बेटी जब घर से भाग जाती है
Dr. Sunita Singh
कभी भीड़ में…
Rekha Drolia
परिंदों सा।
Taj Mohammad
#जंगली फर (चार)....
Chinta netam " मन "
आप से हैं गुज़ारिश हमारी.... 
Dr. Alpa H. Amin
मेरी चुनरिया
DESH RAJ
पिता खुशियों का द्वार है।
Taj Mohammad
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मोतियों की सुनहरी माला
DESH RAJ
चलो जिन्दगी को।
Taj Mohammad
तन-मन की गिरह
Saraswati Bajpai
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
आदर्श ग्राम्य
Tnmy R Shandily
✍️मनस्ताप✍️
"अशांत" शेखर
उम्मीद की किरण हैंं बड़ी जादुगर....
Dr. Alpa H. Amin
" ना रही पहले आली हवा "
Dr Meenu Poonia
मेरे पिता से बेहतर कोई नहीं
Manu Vashistha
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
** The Highway road **
Buddha Prakash
पिता
pradeep nagarwal
कभी जमीं कभी आसमां बन जाता है।
Taj Mohammad
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
भाईजान की बात
AJAY PRASAD
पहचान
Anamika Singh
नभ के दोनों छोर निलय में –नवगीत
रकमिश सुल्तानपुरी
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...