Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2022 · 1 min read

कहां है

संघर्षों में विश्राम कहां है ?
पूरे हुए अरमान कहां है ?
करे सामना चुनौतियां का
अब वो श्री राम कहां है ?
राह ताक रही गोपियां
हे गोपीनाथ कहां है ?
रंभाने लगी गौउए भी
हे नंद गोपाल कहां है ?
बढ़ रहे पाप देवधरा में
हे घन श्याम कहां है ?
लुट रही लाज नारी की
धरा पे तेरा धाम कहां है
संत, मुनि करे पुकार
नटखट श्याम कहां है ?
पुण्य के पड़े अकाल में
तेरा पावन नाम कहां है?

Language: Hindi
5 Likes · 6 Comments · 274 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
గురు శిష్యుల బంధము
గురు శిష్యుల బంధము
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
3160.*पूर्णिका*
3160.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
महाप्रयाण
महाप्रयाण
Shyam Sundar Subramanian
अंधविश्वास का पुल / DR. MUSAFIR BAITHA
अंधविश्वास का पुल / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जाने क्यों तुमसे मिलकर भी
जाने क्यों तुमसे मिलकर भी
Sunil Suman
"रंग भले ही स्याह हो" मेरी पंक्तियों का - अपने रंग तो तुम घोलते हो जब पढ़ते हो
Atul "Krishn"
थोड़ी मोहब्बत तो उसे भी रही होगी हमसे
थोड़ी मोहब्बत तो उसे भी रही होगी हमसे
शेखर सिंह
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
विकास शुक्ल
Humanism : A Philosophy Celebrating Human Dignity
Humanism : A Philosophy Celebrating Human Dignity
Harekrishna Sahu
धर्म ज्योतिष वास्तु अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
धर्म ज्योतिष वास्तु अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
***कृष्णा ***
***कृष्णा ***
Kavita Chouhan
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Neeraj Agarwal
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
Dr Archana Gupta
Wakt hi wakt ko batt  raha,
Wakt hi wakt ko batt raha,
Sakshi Tripathi
रिश्ते
रिश्ते
Mangilal 713
पन्नें
पन्नें
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
*जिसने भी देखा अंतर्मन, उसने ही प्रभु पाया है (हिंदी गजल)*
*जिसने भी देखा अंतर्मन, उसने ही प्रभु पाया है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
हुआ अच्छा कि मजनूँ
हुआ अच्छा कि मजनूँ
Satish Srijan
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
पूर्वार्थ
कुछ अपनी कुछ उनकी बातें।
कुछ अपनी कुछ उनकी बातें।
सत्य कुमार प्रेमी
दर्शन की ललक
दर्शन की ललक
Neelam Sharma
"बतंगड़"
Dr. Kishan tandon kranti
मुस्कुरा दो ज़रा
मुस्कुरा दो ज़रा
Dhriti Mishra
रही प्रतीक्षारत यशोधरा
रही प्रतीक्षारत यशोधरा
Shweta Soni
मुझे अच्छी नहीं लगती
मुझे अच्छी नहीं लगती
Dr fauzia Naseem shad
स्वयं की खोज कैसे करें
स्वयं की खोज कैसे करें
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
मैं तो महज बुनियाद हूँ
मैं तो महज बुनियाद हूँ
VINOD CHAUHAN
इस कदर भीगा हुआ हूँ
इस कदर भीगा हुआ हूँ
Dr. Rajeev Jain
औरत की नजर
औरत की नजर
Annu Gurjar
Loading...