Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Oct 2022 · 2 min read

कहां है, शिक्षक का वह सम्मान जिसका वो हकदार है।

*कहां है शिक्षक का वह सम्मान जिसका वो हकदार है*

खुद अंधेरे में रहकर दूसरों को प्रकाशित करना वाला, दूसरों को महत्तम ऊंचाई तक पहुंचाने वाला, ईमानदार निष्पक्षपाती, दूरदर्शी निष्कपट, समाज और देश की दिशा और दशा को बदलने वाला, चरित्रवान दूसरों को बनाने वाला, बिना विरोध व सहज भाव से वे सब कार्य करने वाला जो गैर शैक्षणिक हैं,एक सशक्त, शिक्षित समाज और देश का निर्माण करने वाले शिक्षक को क्या वास्तव में आज वह सम्मान मिल रहा है, जिसका वह वास्तविक हकदार है। तो उत्तर होगा नहीं। आज उस पर कार्य का बोझ इतना लाद दिया है, कि वह स्वतंत्र रूप से कोई कार्य नहीं कर पा रहा, करता भी है, तो डर के साथ। हमें यह कभी नहीं भूलना चाहिए कि एक शिक्षक एक सामान्य व्यक्ति नहीं होता और जो सामान्य व्यक्ति होता है। तो वह शिक्षक नहीं होता। शिक्षक जिसे चाहे बना सकता है, लेकिन कोई भी शिक्षक को नहीं बना सकता इसलिए शिक्षक की किसी दूसरे पद या व्यक्ति से तुलना करना बिल्कुल अनुचित है। जिसका शिक्षक ने निर्माण किया है,वह शिक्षक के बराबर कभी नहीं हो सकता। आज शिक्षक का गैर शैक्षणिक कार्यों के द्वारा और अन्य तरह-तरह से उसका मानसिक और शारीरिक शोषण हो रहा है। अगर ऐसा होता रहेगा तो एक शिक्षक क्या वे सब परिणाम दे पाएगा जिसकी अपेक्षा उससे समाज या देश करता है, यह सोचने का विषय है। एक शिक्षक वह सब कार्य बिना विरोध और खुशी के साथ सहज भाव से करता है, जिसे कोई दूसरा करने से हिचकता है या कर नहीं पाता। टीचर की सैलरी सभी को चुभती है, परंतु उसे जो समाज और देश की जिम्मेदारी सौंपी गई है। जिसके लिए वह बहुत ही परिश्रम, कर्तव्यों के साथ, निस्वार्थ होकर और ईमानदारी के साथ कार्य करता है, वह किसी को दिखाई नहीं देता। अगर हम किसी समाज और देश को विकसित बनाना चाहते हैं, तो जरूरी होगा कि वहां के शिक्षकों को वह सम्मान मिलना चाहिए जिसका वह वास्तव में हकदार है। वर्तमान में ऐसा देखने में आ रहा है कि कहीं ना कहीं उसके सम्मान में कमी आई है, जिसका सीधा असर शिक्षा पर पड़ेगा और हमें वो परिणाम नहीं मिल पायेगा जो हम उससे चाहते हैं।
“दुष्यन्त कुमार” की कलम से

Language: Hindi
Tag: निबंध, लेख
1 Like · 49 Views
You may also like:
वो बचपन की बातें
Shyam Singh Lodhi (LR)
धरती माँ
जगदीश शर्मा सहज
राष्ट्रभाषा
Prakash Chandra
माँ ब्रह्मचारिणी
Vandana Namdev
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
और न साजन तड़पाओ अब तुम
Ram Krishan Rastogi
किसी के मेयार पर
Dr fauzia Naseem shad
भारतवर्ष
Utsav Kumar Aarya
✍️रिश्तेदार.. ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
छोटे गाँव का लड़का था मैं
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
"अच्छी आदत रोज की"
Dushyant Kumar
✍️प्रेम की राह पर-72✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरा नाजुक दिल
Anamika Singh
अजीज
shabina. Naaz
मृत्यु... (एक अटल सत्य )
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
तेरी जिन्दगानी तो
gurudeenverma198
फूल अब शबनम चाहते है।
Taj Mohammad
*हिंदुस्तान को रखना( मुक्तक )*
Ravi Prakash
विश्व जनसंख्या दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बिस्तर की सिलवटों में
Kaur Surinder
बेटियों की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
■ मौजूदा दौर में....
*प्रणय प्रभात*
सच मानो
सूर्यकांत द्विवेदी
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अवाम का बदला
Shekhar Chandra Mitra
मंथरा के ऋणी....श्री राम
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
प्यारी मेरी बहना
Buddha Prakash
Writing Challenge- कल्पना (Imagination)
Sahityapedia
^^बहरूपिये लोग^^
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
पुराने खत
sangeeta beniwal
Loading...