Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 12, 2022 · 1 min read

कहां जीवन है ?

जीने के सब सामान जुटे
पर इनमें कहीं न जीवन है ।
बीत रहे दिन काल चक्र संग
रुका हुआ पर मेरा मन है ।
नहीं कोई बाधा है पथ में
जीवन में सब सतत प्रवाह ।
कुछ तो सिमटा पर अन्तस में
मिलती है न जिसकी थाह। ।
खुशियां हैं कुछ छद्‌म वेश में
इस मन को हरषाने आयीं ।
मन भी है बच्चे सा जिद्‌दी
न इसे छद्‌मता छल पायी ।
ये जीवन प्रहसन जीने को
कितना भौतिक सामान जुटा ।
जग रीतों की इस वेदी पर
जीवन का सब आह्लाद लुटा ।
जब अभिनय का होता मंचन
सब देखें उसको भाव विह्वल ।
पर इस झूठे जग मंचन में
मन का अस्तित्व हो गया विकल ।
जीवन प्रत्याशा छिन्न हुई
बस सांसों का व्यापार बचा ।
उल्लास सरलता खोई सब
बस जीवन में अभिनय ही बचा ।

1 Like · 88 Views
You may also like:
#15_जून
Ravi Prakash
【11】 *!* टिक टिक टिक चले घड़ी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️"सूरज"और "पिता"✍️
"अशांत" शेखर
💐 गुजरती शाम के पैग़ाम💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उस दिन
Alok Saxena
'मेरी यादों में अब तक वे लम्हे बसे'
Rashmi Sanjay
वृक्ष की अभिलाषा
डॉ. शिव लहरी
पापा
सेजल गोस्वामी
✍️निज़ाम✍️
"अशांत" शेखर
✍️क्या क्या पढ़ा है आपने ?✍️
"अशांत" शेखर
सच्चा रिश्ता
DESH RAJ
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
अपनी भाषा
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
ईश्वर की जयघोश
AMRESH KUMAR VERMA
रिश्तों की बदलती परिभाषा
Anamika Singh
*"पिता"*
Shashi kala vyas
ज़िक्र तेरा
Dr fauzia Naseem shad
शब्दों के एहसास गुम से जाते हैं।
Manisha Manjari
जुल्फ जब खुलकर बिखर गई
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
दाने दाने पर नाम लिखा है
Ram Krishan Rastogi
✍️बुलडोझर✍️
"अशांत" शेखर
विषय:सूर्योपासना
Vikas Sharma'Shivaaya'
खा लो पी लो सब यहीं रह जायेगा।
सत्य कुमार प्रेमी
आद्य पत्रकार हैं नारद जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
ऐ जिंदगी कितने दाँव सिखाती हैं
Dr. Alpa H. Amin
हमारी जां।
Taj Mohammad
भगवान की तलाश में इंसान
Ram Krishan Rastogi
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
सच्चा प्यार
Anamika Singh
Loading...