Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#14 Trending Author
Apr 5, 2022 · 1 min read

कहां चला अरे उड़ कर पंछी

कहां चला अरे उड़ कर पंछी
मैं फिर होंगा हरा भरा
लौट आएंगी फिर से बहारें
फल फूलों से हरा भरा
वक्त सभी में आता है पंछी
कभी अच्छा कभी बुरा
देख पतछड़ तुम हो घबराए
मैं तुफानों से नहीं डरा
अपना घर ही छोड़ दिया तो
गैरों के पेट कहां भरा
विकट समय घबराना कैसा
सोच समझके रहो जरा
सच्ची कहावत कही किसी ने
जो कोई डरा वही मरा
कहां चला अरे उड़ कर पंछी
मैं फिर होंगा हरा भरा

4 Likes · 5 Comments · 93 Views
You may also like:
आदर्श पिता
Sahil
श्री राधा मोहन चतुर्वेदी
Ravi Prakash
भारतवर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
Feel it and see that
Taj Mohammad
निस्वार्थ पापा
Shubham Shankhydhar
एक प्रश्न
Aditya Prakash
अंदाज़ ही निराला है।
Taj Mohammad
मौसम बदल रहा है
Anamika Singh
सेहरा गीत परंपरा
Ravi Prakash
✍️दरिया और समंदर✍️
"अशांत" शेखर
मैं द्रौपदी, मेरी कल्पना
Anamika Singh
पिता
KAMAL THAKUR
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
चेतना के उच्च तरंग लहराओं रे सॉवरियाँ
Dr.sima
कौन कहता कि स्वाधीन निज देश है?
Pt. Brajesh Kumar Nayak
" हैप्पी और पैंथर "
Dr Meenu Poonia
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
रेत समाधि : एक अध्ययन
Ravi Prakash
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सेमर
विकास वशिष्ठ *विक्की
#क्या_पता_मैं_शून्य_न_हो_जाऊं
D.k Math
जैसा भी ये जीवन मेरा है।
Saraswati Bajpai
भूले बिसरे गीत
RAFI ARUN GAUTAM
कितना मुश्किल है पिता होना
Ashish Kumar
గురువు
Vijaykumar Gundal
विनती
Anamika Singh
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
Ravi Prakash
✍️कालचक्र✍️
"अशांत" शेखर
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
पानी के लिए लड़ेगी दुनिया, नहीं मिलेगा चुल्लू भर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...