कहाँ से चली आई तुम जिंदा लाशों की बस्ती में

कहाँ से चली आई तुम जिंदा लाशों की बस्ती में,
सब बापू के बंदर बने बैठे हैं आसों की बस्ती में।

आइना बेचने निकली हो तुम अँधों के शहर में,
सफेदपोश ही मिलेंगे तुम्हें बदमाशों की बस्ती में।

रहनुमा बने हुए हैं ये सारे धर्म, मजहब, जात के,
समाज के ठेकेदार मिलेंगे विनाशों की बस्ती में।

तुम क्यों चिराग जलाने की कोशिश कर रही हो,
हर रोज दिल जलते हैं इन अय्याशों की बस्ती में।

तुम्हारे शब्दों ने तीरों सा काम कर दिया है आज,
देखो मातम पसरा है इन अट्टहासों की बस्ती में।

चली जाओ वापिस तुम, तुम्हें उस खुदा का वास्ता,
जान लो कोई सुरक्षित नहीं है इन रासों की बस्ती में।

रोती फिरोगी फिर सुलक्षणा इंसाफ के लिए तुम,
कोरी बयानबाजी होगी इन दिलासों की बस्ती में।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

1 Like · 133 Views
You may also like:
मजदूरों की दुर्दशा
Anamika Singh
शब्द बिन, नि:शब्द होते,दिख रहे, संबंध जग में।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वृक्ष की अभिलाषा
डॉ. शिव लहरी
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
**यादों की बारिशने रुला दिया **
Dr. Alpa H.
माँ
आकाश महेशपुरी
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
पिता
Saraswati Bajpai
** शरारत **
Dr. Alpa H.
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
याद आते हैं।
Taj Mohammad
आज कुछ ऐसा लिखो
Saraswati Bajpai
किसी और के खुदा बन गए है।
Taj Mohammad
उन्हें आज वृद्धाश्रम छोड़ आये
Manisha Manjari
कभी मिट्टी पर लिखा था तेरा नाम
Krishan Singh
है रौशन बड़ी।
Taj Mohammad
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
तुम हो
Alok Saxena
बाबू जी
Anoop Sonsi
तलाश
Dr. Rajeev Jain
गांव के घर में।
Taj Mohammad
तुम्हारी चाय की प्याली / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
【28】 *!* अखरेगी गैर - जिम्मेदारी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मेरे पापा जैसे कोई नहीं.......... है न खुदा
Nitu Sah
आह! 14 फरवरी को आई और 23 फरवरी को चली...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
समय और रिश्ते।
Anamika Singh
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
*!* कच्ची बुनियाद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
*तिरछी नजर *
Dr. Alpa H.
Loading...