Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jan 2023 · 1 min read

कहाँ गया रोजगार…?

कहाँ गया रोजगार…?
~~°~~°~~°
कहाँ गया रोजगार…?
खत्म हुआ रोजगार…!
बीए बीकाॅम एमए पढकर ,
होगा न अब चमत्कार।
चला गया रोजगार…!
ड्राईवर प्लंबर वेल्डर फीटर ,
सीखा न कोई हुनर औजार।
एसी कार मोबाइल मेकेनिक ,
कर न सका व्यापार।
खत्म हुआ रोजगार…!
कला की भी कोई कद्र,न की है तूने ,
ललबबूआ परिवार।

चला गया रोजगार…!

जनसंख्या अति प्रतिस्पर्धा देखो,
हुनर तुम लाओ हजार ।
सोचों यदि अविचल मन से ,
लाखों है रोजगार।
बचके रहना निठल्लों से,
भड़कायेंगे सौ बार ।
हीन भावना से ग्रसित कर देंगे ,
जैसे खुद हैं वो बेकार।
बनना है बाबू अफसर तो ,
खान सर से,लो उर्जा उधार।
नहीं तो ऐसा उद्योग लगा लो ,
जैसे झा जी का अचार…!

प्रकट होगा रोजगार…!

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ०८ /०१/२०२३
माघ ,कृष्ण पक्ष,प्रतिपदा,रविवार
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail.com

3 Likes · 2 Comments · 171 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
उसकी सौंपी हुई हर निशानी याद है,
उसकी सौंपी हुई हर निशानी याद है,
Vishal babu (vishu)
*प्रकृति का यह करिश्मा है (हिंदी गजल/गीतिका)*
*प्रकृति का यह करिश्मा है (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
श्रीमद्भगवद्‌गीता का सार
श्रीमद्भगवद्‌गीता का सार
Jyoti Khari
"किसी की नज़र ना लगे"
Dr. Kishan tandon kranti
Ek ladki udas hoti hai
Ek ladki udas hoti hai
Sakshi Tripathi
चेहरे का यह सबसे सुन्दर  लिबास  है
चेहरे का यह सबसे सुन्दर लिबास है
Anil Mishra Prahari
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
Shyam Pandey
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अगे माई गे माई ( मगही कविता )
अगे माई गे माई ( मगही कविता )
Ranjeet Kumar
फहराये तिरंगा ।
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
बेटी और प्रकृति से बैर ना पालो,
बेटी और प्रकृति से बैर ना पालो,
लक्ष्मी सिंह
संघर्ष के बिना
संघर्ष के बिना
gurudeenverma198
एक शे'र
एक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
नफ़रत की आग
नफ़रत की आग
Shekhar Chandra Mitra
अपना ख़याल तुम रखना
अपना ख़याल तुम रखना
Shivkumar Bilagrami
न हिन्दू बुरा है
न हिन्दू बुरा है
Satish Srijan
क्या तुम इंसान हो ?
क्या तुम इंसान हो ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
अलविदा दिसम्बर
अलविदा दिसम्बर
Dr Archana Gupta
SHELTER OF LIFE
SHELTER OF LIFE
Awadhesh Kumar Singh
💐प्रेम कौतुक-396💐
💐प्रेम कौतुक-396💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शुभोदर छंद(नवाक्षरवृति वार्णिक छंद)
शुभोदर छंद(नवाक्षरवृति वार्णिक छंद)
Neelam Sharma
रहस्य
रहस्य
Shyam Sundar Subramanian
राधा-मोहन
राधा-मोहन
Pratibha Kumari
छोटी छोटी कढ़ियों से बनी जंजीर
छोटी छोटी कढ़ियों से बनी जंजीर
Dr. Rajiv
मजदूरों वही हाल,, तो क्या नया साल,,
मजदूरों वही हाल,, तो क्या नया साल,,
मानक लाल"मनु"
जब तक हयात हो
जब तक हयात हो
Dr fauzia Naseem shad
एक दिन !
एक दिन !
Ranjana Verma
■ आज का मुक्तक...
■ आज का मुक्तक...
*Author प्रणय प्रभात*
अजीब बात है
अजीब बात है
umesh mehra
“पतंग की डोर”
“पतंग की डोर”
DrLakshman Jha Parimal
Loading...