Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 10, 2021 · 1 min read

कहते मेरे है

एक छत है मगर
अलग अलग कमरे है
कही गम कही खुशी कही बेखबरी
सभी अलग अलग चेहरे है
कोई नही जानता रात किसकी कैसी थी
कही हल्के कही गहरे काले घेरे है
उसकी इजाजत से उस तक जाना मुश्किल है जरा
अलग दुनिया है अलग अलग पहरे है
घरौंदे होते थे कभी, अब बस मकान होते है
पसंद का रंग भी नही जानते, कहते मेरे हैं

1 Like · 240 Views
You may also like:
I feel h
Swami Ganganiya
मां की दुआ है।
Taj Mohammad
अना दिलों में सभी के....
अश्क चिरैयाकोटी
अच्छा मित्र कौन ? लेख - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
खुदा तो हो नही सकता –ग़ज़ल
रकमिश सुल्तानपुरी
तुम कहते हो।
Taj Mohammad
✍️खलबली✍️
'अशांत' शेखर
राज का अंश रोमी
Dr Meenu Poonia
एक पते की बात
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हवाई जहाज
Buddha Prakash
ये सियासत है।
Taj Mohammad
पारिवारिक बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
I know you are not real, just my hallucination.
Manisha Manjari
अग्रवाल धर्मशाला में संगीतमय श्री रामकथा
Ravi Prakash
"एक अत्याचार"
पंकज कुमार "कर्ण"
ममता
Rashmi Sanjay
कृष्ण मुरारी
Rekha Drolia
कविता - नई परिभाषा
Mahendra Narayan
रक्षा बंधन
विजय कुमार अग्रवाल
ये जी चाहता है।
Taj Mohammad
*तीज-त्यौहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रिश्तों की अहमियत को न करें नज़र अंदाज़
Dr fauzia Naseem shad
#मजबूरिया
Dalveer Singh
कृष्ण वंदना
लक्ष्मी सिंह
मन का मोह
AMRESH KUMAR VERMA
इश्क ए बंदगी में।
Taj Mohammad
फैल गया काजल
Rashmi Sanjay
पहले वाली मोहब्बत।
Taj Mohammad
कहानी *"ममता"* पार्ट-3 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
खुशियों का मोल
Dr fauzia Naseem shad
Loading...