Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-262💐

कहकशाँ कह दूँ तुम्हें आवाज़ दो,
मुझे सुन रहे हो क्या?आवाज़ दो।।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
38 Views
You may also like:
जो मासूम हैं मासूमियत से छल रहें हैं ।
जो मासूम हैं मासूमियत से छल रहें हैं ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
नियत समय संचालित होते...
नियत समय संचालित होते...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कभी कभी मन करता है या दया आती है और लगता है कि तुम्हे खूदकी औकात नापने का मौका द
कभी कभी मन करता है या दया आती है और लगता है कि तुम्हे खूदकी औकात नापने का मौका द
Nav Lekhika
"गॉंव का समाजशास्त्र"
Dr. Kishan tandon kranti
बढ़ चुकी दुश्वारियों से
बढ़ चुकी दुश्वारियों से
Rashmi Sanjay
Destiny
Destiny
Shyam Sundar Subramanian
विश्व पुस्तक मेला, दिल्ली 2023
विश्व पुस्तक मेला, दिल्ली 2023
Shashi Dhar Kumar
देखा है जब से तुमको
देखा है जब से तुमको
Ram Krishan Rastogi
💐प्रेम कौतुक-465💐
💐प्रेम कौतुक-465💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बिछड़ा हो खुद से
बिछड़ा हो खुद से
Dr fauzia Naseem shad
जीवन के इस लंबे सफर में आशा आस्था अटूट विश्वास बनाए रखिए,उम्
जीवन के इस लंबे सफर में आशा आस्था अटूट विश्वास बनाए रखिए,उम्
Shashi kala vyas
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
Vishal babu (vishu)
सही नहीं है /
सही नहीं है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ना चराग़ मयस्सर है ना फलक पे सितारे
ना चराग़ मयस्सर है ना फलक पे सितारे
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
गौरैया बोली मुझे बचाओ
गौरैया बोली मुझे बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सुशांत देश (पंचचामर छंद)
सुशांत देश (पंचचामर छंद)
Rambali Mishra
#यादों_का_झरोखा
#यादों_का_झरोखा
*Author प्रणय प्रभात*
बंधन दो इनकार नहीं है
बंधन दो इनकार नहीं है
Dr. Girish Chandra Agarwal
लीकछोड़ ग़ज़ल
लीकछोड़ ग़ज़ल
Dr MusafiR BaithA
चंद घड़ी उसके साथ गुजारी है
चंद घड़ी उसके साथ गुजारी है
Anand.sharma
कौसानी की सैर
कौसानी की सैर
नवीन जोशी 'नवल'
माँ वाणी की वन्दना
माँ वाणी की वन्दना
Prakash Chandra
प्यार है तो सब है
प्यार है तो सब है
Shekhar Chandra Mitra
तुम्हारी यादों में सो जाऊं
तुम्हारी यादों में सो जाऊं
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
ऐसी बरसात भी होती है
ऐसी बरसात भी होती है
Surinder blackpen
हम हँसते-हँसते रो बैठे
हम हँसते-हँसते रो बैठे
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
ऋतुराज वसंत
ऋतुराज वसंत
Raju Gajbhiye
मैं किताब हूँ
मैं किताब हूँ
Arti Bhadauria
शायर जानता है
शायर जानता है
Nanki Patre
जिंदगी के कोरे कागज पर कलम की नोक ज्यादा तेज है...
जिंदगी के कोरे कागज पर कलम की नोक ज्यादा तेज है...
कवि दीपक बवेजा
Loading...