Oct 6, 2016 · 1 min read

कसम तुम्हें नेता सुभाष की….गीत.

आओ बच्चों सुनो कहानी, अपने हिन्दुस्तान की.
नित प्रति होती यहाँ आरती आरक्षण भगवान की.

एससी०, एसटी०, ओबीसी० सब, सरकारी दामाद यहाँ
और बचें जो जनरल वाले, वे पाते अवसाद यहाँ.
नौकरियां सरकारी पब्लिक, सेक्टर में भी आरक्षण
निजी क्षेत्र भी नहीं अछूते, होगा उनका भी भक्षण.
अनुसूचित को मिले मलाई, चिंता नहीं जहान की
नित प्रति होती यहाँ आरती, आरक्षण भगवान की.

क्रायटेरिया से ऊपर जो, जनरल माने जाते हैं
नीचे वाले नाकारा बन वे ही भर्ती पाते हैं
असली जनरल योग्य भले हों, जूझें, मुँह की खाते है
सरेआम वे पर इस समाज में, इज्जत नित्य गँवाते हैं
नहीं क़द्र, बेकार योग्यता, बाजी लगती जान की.
नित प्रति होती यहाँ आरती, आरक्षण भगवान की.

बीत गए हैं बरस पचासों, आगे भी यह होना है
आज रो रही प्रतिभा कुंठित, तुमको भी कल रोना है
निज कल्याण चाहते यदि हो, इस भक्षण को ख़त्म करो.
कानूनन यदि सभी बराबर, आरक्षण को खत्म करो
कसम तुम्हें नेता सुभाष की, अशफाकुल्लाह खान की,
नित प्रति होती यहाँ आरती, आरक्षण भगवान की.

आओ बच्चों सुनो कहानी अपने हिन्दुस्तान की.
नित प्रति होती यहाँ आरती आरक्षण भगवान की..

–रचनाकार: इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

1 Like · 1 Comment · 166 Views
You may also like:
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
खुशबू चमन की किसको अच्छी नहीं लगती।
Taj Mohammad
हिरण
Buddha Prakash
कौन आएगा
Dhirendra Panchal
हंसकर गमों को एक घुट में मैं इस कदर पी...
Krishan Singh
*पुस्तक का नाम : अँजुरी भर गीत* (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
लत...
Sapna K S
किसको बुरा कहें यहाँ अच्छा किसे कहें
Dr Archana Gupta
एक शख्स सारे शहर को वीरान कर जाता हैं
Krishan Singh
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
पिता
Ray's Gupta
यादों से दिल बहलाना हुआ
N.ksahu0007@writer
बुलंद सोच
Dr. Alpa H.
मातृदिवस
Dr Archana Gupta
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
💐प्रेम की राह पर-53💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ममता की फुलवारी माँ हमारी
Dr. Alpa H.
नूर
Alok Saxena
बहन का जन्मदिन
Khushboo Khatoon
मेरे पापा।
Taj Mohammad
"जीवन"
Archana Shukla "Abhidha"
सत् हंसवाहनी वर दे,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मैं हो गई पराई.....
Dr. Alpa H.
एक दौर था हम भी आशिक हुआ करते थे
Krishan Singh
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Accept the mistake
Buddha Prakash
पूंजीवाद में ही...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नवगीत -
Mahendra Narayan
लड़ते रहो
Vivek Pandey
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
Loading...