#9 Trending Author

शरीर रूपी प्रतीकात्मक उपदेशक भजन

उपदेशक भजन

कवि शिरोमणि पंडित राजेराम भारद्वाज संगीताचार्य जो सूर्यकवि श्री पंडित लख्मीचंद जी प्रणाली के प्रसिद्ध सांगी कवि शिरोमणि पंडित मांगेराम जी के शिष्य है जो जाटू लोहारी (भिवानी) निवासी है | आज मै उनका एक भजन प्रस्तुत कर रहा हु | यह एक उपदेशक भजन है |

भजन – उपदेशक

पवनवेग रथ घोड़े जोड़े गया बैठ सवारी करके |
भूप पुरंजन घुमण चाल्या बण की त्यारी करके || टेक ||

एक मृग कै साथ दिशा दक्षिण मै खेलण शिकार गया था
चलता फिरता भूखा प्यासा हिम्मत हार गया था
बाग डोर छुटी बिछड़ सारथी मित्र यार गया था
सुन्दर बाग़ तला कै जड़ मै पहली बार गया था
तला मै नहाके लेट बाग़ मै गया दोह्फारी करके ||

9 दरवाजे 10 ढयोढ़ी बैठे 4 रुखाली
20 मिले 32 खिले फूल 100 थी झुलण आली
खिलरे बाग़ चमेली चम्पा नहीं चमन का माली
बहु पुरंजनी गैल सखी दश बोली जीजा साली
शर्म का मारया बोल्या कोन्या रिश्तेदारी करके ||

जड़ै आदमी रहण लागज्या उड़ै भाईचारा हो सै
आपा जापा और बुढ़ापा सबनै भारया हो सै
एक पुरंजन 17 दुश्मन साथी 12 हो सै
बखत पड़े मै साथ निभादे वोहे प्यारा हो सै
प्यार मै धोखा पिछ्ताया नुगरे तै यारी करके ||

बाग़ बिच मै शीशमहल आलिशान दिखाई दे था
हूर पदमनी नाचै परिस्तान दिखाई दे था
मैंन गेट मै दो झांकी जिहान दिखाई दे था
आँख खुली जिब सुपना बेईमान दिखाई दे था
राजेराम जमाना दुखिया फूट बीमारी करके ||

198 Views
You may also like:
*बुद्ध पूर्णिमा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
चलो जिन्दगी को फिर से।
Taj Mohammad
💐💐💐न पूछो हाल मेरा तुम,मेरा दिल ही दुखाओगे💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रामे क बरखा ह रामे क छाता
Dhirendra Panchal
आप तो आप ही हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फरिश्ता से
Dr.sima
सुंदर सृष्टि है पिता।
Taj Mohammad
**यादों की बारिशने रुला दिया **
Dr. Alpa H.
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आख़िरी मुलाक़ात ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
स्वप्न-साकार
Prabhudayal Raniwal
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
बगिया जोखीराम में श्री चंद्र सतगुरु की आरती
Ravi Prakash
मेरे दिल के करीब,आओगे कब तुम ?
Ram Krishan Rastogi
नन्हा बीज
मनोज कर्ण
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
पुरी के समुद्र तट पर (1)
Shailendra Aseem
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
Buddha Prakash
सच में ईश्वर लगते पिता हमारें।।
Taj Mohammad
=*बुराई का अन्त*=
Prabhudayal Raniwal
कविता क्या है ?
Ram Krishan Rastogi
बोलती आँखे...
मनोज कर्ण
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
Loading...