Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2022 · 1 min read

कवि का कवि से

‘ कवि का कवि से सम्मान होना चाहिए।
सुकवि का हृदय से आह्वान होना चाहिए।
तरन्नुम में पढें या ठेठ हिन्दी में,
काव्य का संविधान होना चाहिये।
डा.प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
2 Likes · 329 Views
You may also like:
आस्तीक भाग -छः
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ दोगले विधान
*Author प्रणय प्रभात*
थे गुर्जर-प्रतिहार के, सम्राट मिहिर भोज
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम जनमदिन को कुछ यूँ मनाने लगे
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
उसने कहा था
अंजनीत निज्जर
तेरी अबरू लाजवाब है
Shiv kumar Barman
बरसात
प्रकाश राम
दिन आये हैं मास्क के...
आकाश महेशपुरी
पहले प्यार का एहसास
Kaur Surinder
" भयंकर यात्रा "
DrLakshman Jha Parimal
ऐसा नहीं है कि मैं तुम को भूल जाती हूँ
Faza Saaz
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
Buddha Prakash
नूतन वर्ष की नई सुबह
Kavita Chouhan
धूप सुहानी
Arvina
शूद्रों और स्त्रियों की दुर्दशा
Shekhar Chandra Mitra
जीवन हमारा रैन बसेरा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
शेर
Rajiv Vishal
1-साहित्यकार पं बृजेश कुमार नायक का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जहरीला साप
rahul ganvir
तिनका तिनका करके।
Taj Mohammad
गीत
Kanchan Khanna
*डॉ. सुचेत गोइंदी जी : कुछ यादें*
Ravi Prakash
तनिक पास आ तो सही...!
Dr. Pratibha Mahi
मेरे ख्यालों में क्यो आते हो
Ram Krishan Rastogi
✍️पर्दा-ताक हुवा नहीं✍️
'अशांत' शेखर
अगर मेरे साथ यह नहीं किया होता तूने
gurudeenverma198
तुम्हारा देखना ❣️
अनंत पांडेय "INϕ9YT"
क्या ज़रूरत थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कोशिश करो
Dr fauzia Naseem shad
"भक्त नरहरि सोनार"
Pravesh Shinde
Loading...