Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 14, 2022 · 1 min read

कविराज

चलो आज सुनाता हूंँ एक कविता,
सुनकर हैरान न होना सब,
व्यर्थ में आश्चर्यचकित ना रह जाना ,
एक-एक पंक्ति ह्रदय से लेना ,
ध्यान खो ना जाए कहीं ,
काव्य की भावना है यह,
भावुक भी कर देंगे तुमको ,
एक छोटी-सी आरजू है ,
प्रसन्न मन से आनंद लेना ,
ऐसी लिखी है कृति ,
सुनाने का भाव है जगा मुझ में ,
सुनने का भाव सार्थक करना तुम ,
काव्य मंच पर खड़ा एक कवि ,
निहारता है प्रांगण की ओर ,
देख जिज्ञासा सुनने वालों की ,
हो गया वह भाव विभोर ,
लुटा दिया फिर प्यार के बोल ,
प्रशंसक है ढेरों ढेर ,
धन्य हुआ है कवि आज ,
हृदय में बसा है कविराज ,
चंद शब्दों से बने हैं उसके एहसास ,
आज कहता है धन्यवाद धन्यवाद ।

रचनाकार –
बुद्ध प्रकाश ,
मौदहा हमीरपुर ।

1 Like · 90 Views
You may also like:
मेरा पेड़
उमेश बैरवा
✍️"अग्निपथ-३"...!✍️
"अशांत" शेखर
मत करना
dks.lhp
सोंच समझ....
Dr. Alpa H. Amin
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
नजर तो मुझको यही आ रहा है
gurudeenverma198
फादर्स डे पर विशेष पिरामिड कविता
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मेंढक और ऊँट
सूर्यकांत द्विवेदी
प्यारा भारत
AMRESH KUMAR VERMA
मुकरियां __नींद
Manu Vashistha
नई जिंदगानी
AMRESH KUMAR VERMA
स्वर कोकिला
AMRESH KUMAR VERMA
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
आकर मेरे ख्वाबों में, पर वे कहते कुछ नहीं
Ram Krishan Rastogi
"राम-नाम का तेज"
Prabhudayal Raniwal
दिल की आरजू.....
Dr. Alpa H. Amin
शब्द बिन, नि:शब्द होते,दिख रहे, संबंध जग में।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
In my Life.
Taj Mohammad
अल्फाज़ ए ताज भाग-3
Taj Mohammad
मजदूर हूॅं साहब
Deepak Kohli
मैं परछाइयों की भी कद्र करता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
भारत के इतिहास में मुरादाबाद का स्थान
Ravi Prakash
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
**अशुद्ध अछूत - नारी **
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हमको समझ ना पाए।
Taj Mohammad
तुझे देखा तो...
Dr. Meenakshi Sharma
कुंडलियां छंद (7)आया मौसम
Pakhi Jain
संकोच - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
✍️स्त्रोत✍️
"अशांत" शेखर
जीवन और मृत्यु
Anamika Singh
Loading...