Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Sep 2016 · 1 min read

कविता

बुद्ध, जैन, सिख, ईशाई, हिन्दू, मुसलमान
सबका मत एक ही है, क्षमा ही महा दान |

हर धर्म मानता है क्षमा, शांति का है मूल
जानकर भी फैलाते नफरत, क्यों करते यह भूल ?

त्यागना होगा खुद का स्वार्थ, करके अंगीकार
त्यागना होगा भेद भाव, धन जन का अहंकार |

धर्म के नाम से धंधा कर, बोते हैं विष वेल
क्षमा-अमृत, ईर्ष्या-विष में नहीं है कोई मेल |

होते सच्चे धर्मात्मा, मन से सुन्दर क्षमाशील
सुदृढ़ विश्वास, प्रवुद्ध, उदार, असीम सहनशील |

उत्तम गुणी परोपकारी जो, होते जगत में क्षमावान
क्षमा मांग कर सबसे, करते सबको क्षमा दान |

होगा जब हर व्यक्ति क्षमावान, शांति होगी देश में
हिंसा, द्वेष, ईर्ष्या का स्थान, नहीं रहेगा ह्रदय में |

सामर्थ्यवान और बुद्धिमान का क्षमा है उत्तम गुण
कायर, कमजोर और बुद्धिहीन होते है सदा निर्गुण |

© कालीपद ‘प्रसाद’

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Comment · 391 Views
You may also like:
मानव छंद , विधान और विधाएं
Subhash Singhai
बहन का जन्मदिन
Khushboo Khatoon
"कभी मेरा ज़िक्र छिड़े"
Lohit Tamta
हम लिखते क्यों हैं
पूनम झा 'प्रथमा'
**मानव ईश्वर की अनुपम कृति है....
Prabhavari Jha
कविता " बोध "
vishwambhar pandey vyagra
बच्चों को भी भगवान का ही स्वरूप माना जाता है...
पीयूष धामी
जहां चाह वहां राह
ओनिका सेतिया 'अनु '
"सृष्टि की श्रृंखला"
Dr Meenu Poonia
# तेल लगा के .....
Chinta netam " मन "
वो बचपन की बातें
Shyam Singh Lodhi Rajput (LR)
सबेरा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मुख पर तेज़ आँखों में ज्वाला
Rekha Drolia
💐💐धर्मो रक्षति रक्षित:💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भटकता चाँद
Alok Saxena
तुमको पाकर जानें हम अधूरे क्यों हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
तो क्या होगा?
Shekhar Chandra Mitra
बारिश का मौसम
विजय कुमार अग्रवाल
*कथा रिपोर्ट*
Ravi Prakash
जीत-हार में भेद ना,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वरदान दो माँ
Saraswati Bajpai
शिव स्तुति
Shivkumar Bilagrami
अपनी घड़ी उतार कर मत देना
shabina. Naaz
तो क्या हुआ
Faza Saaz
✍️आझादी की किंमत✍️
'अशांत' शेखर
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
कहाँ मिलेंगे तेरे क़दमों के निशाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*मुकम्मल तब्दीलियाँ *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
काश़ ! तुम मेरा
Dr fauzia Naseem shad
फूल अब शबनम चाहते है।
Taj Mohammad
Loading...