Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 26, 2021 · 1 min read

कविता

मदद को हाथ हजारों उठे पर,
मददगार का मर्म किसी ने ना जाना।”
~~अभिषेक ~~

2 Likes · 1 Comment · 198 Views
You may also like:
खुदा ने जो दे दिया।
Taj Mohammad
हम अपने मन की किस अवस्था में हैं
Shivkumar Bilagrami
दाने दाने पर नाम लिखा है
Ram Krishan Rastogi
वज्र तनु दुर्योधन
AJAY AMITABH SUMAN
ज्योति : रामपुर उत्तर प्रदेश का सर्वप्रथम हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
ग़ज़ल- राना सवाल रखता है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जितना सताना हो,सता लो हमे तुम
Ram Krishan Rastogi
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
जिस देश में शासक का चुनाव
gurudeenverma198
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हारी जुदाई ने।
Taj Mohammad
कलयुग में भी गोपियाँ कैसी फरियाद /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
राहों के कांटे हटाते ही रहें।
सत्य कुमार प्रेमी
हनुमंता
Dhirendra Panchal
✍️भरोसा✍️
'अशांत' शेखर
कुण्डलिया
शेख़ जाफ़र खान
कृष्ण जन्म
लक्ष्मी सिंह
मेरे हर सिम्त जो ग़म....
अश्क चिरैयाकोटी
पढ़ाई-लिखाई एक बोझ
AMRESH KUMAR VERMA
एक किताब लिखती हूँ।
Anamika Singh
ये जिंदगी एक उलझी पहेली
VINOD KUMAR CHAUHAN
डूबती कश्ती को साहिल दे।
Taj Mohammad
एक पते की बात
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
In my Life.
Taj Mohammad
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
मृत्यु
AMRESH KUMAR VERMA
एक प्यार ऐसा भी /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
अवधी की आधुनिक प्रबंध धारा: हिंदी का अद्भुत संदोह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सच बोलो
shabina. Naaz
न और ना प्रयोग और अंतर
Subhash Singhai
Loading...