Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

कविता

भारत माता की जय बोलो
——————–
अपने मन की गाँठें खोलो।
भारत माता की जय बोलो।

इस मिट्टी में जन्मे हैं हम, इस मिट्टी में मिल जायेंगे।
भारतवासी पैदा होकर, भारतवासी मर जायेंगे।
जीवन पाया है, तब ही तो मज़हब में ढाले जायेंगे।
वैसी ही होंगी मान्यतायें, हम जैसे पाले जायेंगे।

जिस धरती पर हम मिलजुल कर, सदियों से रहते आये हैं।
इसको ना जाने कब से हम, भारत माँ कहते आये हैं।
जब हम ग़ुलाम थे, अंग्रेज़ों के ज़ुल्म सभी तो सहते थे।
तब भी हम सारे ही भारत को, भारत माता कहते थे।

यह बहुत बाद में हुआ, सियासतदानों ने बाँटा हमको।
तू हिन्दू है, तू मुसलमान, का मार दिया चाँटा हमको।
दुनिया के सारे देशों में ही, जन्मभूमि की गरिमा है।
पैदा करने वाली माता से बढ़कर इसकी महिमा है।

पैदा करके जैसे माता, बच्चों को पाला करती है।
सरज़मीं वतन की भी करती परवरिश, संभाला करती है।
जिस मातृभूमि के बिना मेरी, जग में कोई पहचान नहीं।
भारत माता की जय कहना, है गर्व मेरा, अहसान नहीं।

इन सारी बातों को तोलो।
भारत माता की जय बोलो।

—-बृज राज किशोर

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 1 Comment · 328 Views
You may also like:
जनता की दुर्गति
Shekhar Chandra Mitra
काली सी बदरिया छाई...
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मैं कैसे
Ram Krishan Rastogi
# सुप्रभात .....
Chinta netam " मन "
वक़्त बे-वक़्त तुझे याद किया
Anis Shah
Feel The Love
Buddha Prakash
एकलव्य
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
HAPPY BIRTHDAY PRAMOD TRIPATHI SIR
★ IPS KAMAL THAKUR ★
राष्ट्रीय एकता दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
not a cup of my tea
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुकबल ख्वाब करने हैं......
कवि दीपक बवेजा
अजब-गजब इन्सान...
डॉ.सीमा अग्रवाल
किया वादा
लक्ष्मी सिंह
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
विश्व पृथ्वी दिवस
Dr Archana Gupta
Book of the day: काव्य संग्रह
Sahityapedia
लगइलू आग पानी में ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
लैपटॉप सी ज़िंदगी
सूर्यकांत द्विवेदी
तुम यादों के सारे सिरे तोड़ देते
Dr fauzia Naseem shad
जिसकी फितरत वक़्त ने, बदल दी थी कभी, वो हौसला...
Manisha Manjari
अंगडाई अंग की, वो पुकार है l
अरविन्द व्यास
नंद के घर आयो लाल
Kavita Chouhan
हम ना हंसे हैं।
Taj Mohammad
बिहार छात्र
Utkarsh Dubey “Kokil”
कलयुग की माया
डी. के. निवातिया
खुदा मिल गया
shabina. Naaz
कल्पना
Anamika Singh
✍️मंजूर-ए-खुदा✍️
'अशांत' शेखर
*बिल्ली शाकाहारी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Loading...