Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

सावन ही जाने

कविता
——————
ननद के बहाने
सासू के ताने
विरहन की पीर
कोई क्या जाने ।
बाबुल का आंगन
मन भाए सावन
माता की प्रीत
मिलें वहीं जाने ।
बाग में झूले
मन मेरा डोले
मेघों का गर्जन
आ गये रुलाने ।
जियरा की जलन
घुंघट में घुटन
विरहन की आंच
जले वो जाने ।
दिल जागी लगन
कब आये साजन
मिलें दो अखियां
सावन ही जाने ।
———————-
रचनाकार – शेख जाफर खान

4 Likes · 12 Comments · 288 Views
You may also like:
चाँद और चाँदनी का मिलन
Anamika Singh
Green Trees
Buddha Prakash
वो मेरा हो नहीं सकता
dks.lhp
कभी अलविदा न कहेना....
Dr.Alpa Amin
" जननायक "
DrLakshman Jha Parimal
हम उन्हें कितना भी मनाले
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
आइए रहमान भाई
शिवानन्द सिंह 'सहयोगी'
नसीब
DESH RAJ
✍️✍️नींद✍️✍️
'अशांत' शेखर
ख़ामोश अल्फाज़।
Taj Mohammad
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
बॉलीवुड का अंधा गोरी प्रेम और भारतीय समाज पर इसके...
हरिनारायण तनहा
मेरी हस्ती
Anamika Singh
विसर्जन
Saraswati Bajpai
अदना
Shyam Sundar Subramanian
मिलन
Anamika Singh
कारगिल फतह का २३वां वर्ष
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
धरती की फरियाद
Anamika Singh
हर गम को ही सह लूंगा।
Taj Mohammad
ये दिल टूटा है।
Taj Mohammad
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
संघर्ष
Anamika Singh
दया करो भगवान
Buddha Prakash
*"याचना"*
Shashi kala vyas
लबों से बोलना बेकार है।
Taj Mohammad
हिम्मत न हारों
Anamika Singh
" सिर का ताज हेलमेट"
Dr Meenu Poonia
खता क्या हुई मुझसे
Krishan Singh
शादी से पहले और शादी के बाद
gurudeenverma198
ग़ज़ल
Awadhesh Saxena
Loading...