Oct 3, 2016 · 1 min read

अजन्मा प्रतिकार”

““ अजन्मा प्रतिकार”
—राजा सिंह
मेरे भीतर ,
जन्म ले रहा है एक भ्रूण.
इसका पालन पोषण
मेरा शरीर नहीं ,
वरन करता है
मेरा कुंठित मन ,
और
कुंठित मन का अधार है
बेकारी, भुखमरी,भ्रष्टाचार
और अन्याय तथा शोषण का
फैला हुआ साम्राज्य.
अगर हालत यही रहे तो
भ्रूण बनेगा शिशु ,
और शिशु से जवान ,
जो फिर
शब्द न देकर
देगा रक्त या लेगा रक्त ,
इस असहनीय व्यवस्था का.
इससे व्यवस्था
टूटे या न टूटे, मगर
एक गूंज होंगी
जो इस देश की
गूंगी,बहरी,एवं अंधी
सत्ता सुनेगी ;
और महसूस करेगी
इस देश की
शोषित मानवता
अपने शोषण को .
——-राजा सिंह

167 Views
You may also like:
कर्ज
Vikas Sharma'Shivaaya'
कभी कभी।
Taj Mohammad
Is It Possible
Manisha Manjari
रे बाबा कितना मुश्किल है गाड़ी चलाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सम्मान करो एक दूजे के धर्म का ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
दोस्त जीवन में एक सच्चा दोस्त ज़रूर कमाना….
Piyush Goel
लत...
Sapna K S
*!* सोच नहीं कमजोर है तू *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
कन्या रूपी माँ अम्बे
Kanchan Khanna
पिता भगवान का अवतार होता है।
Taj Mohammad
बुआ आई
राजेश 'ललित'
!?! सावधान कोरोना स्लोगन !?!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
वीर चंद्र सिंह गढ़वाली पर दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वोह जब जाती है .
ओनिका सेतिया 'अनु '
*सोमनाथ मंदिर 【गीत】*
Ravi Prakash
परिवार
सूर्यकांत द्विवेदी
नीड़ फिर सजाना है
Saraswati Bajpai
एक हम ही है गलत।
Taj Mohammad
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
बाल वीर हनुमान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मृत्यु के बाद भी मिर्ज़ा ग़ालिब लोकप्रिय हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
poem
पंकज ललितपुर
महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
डरिये, मगर किनसे....?
मनोज कर्ण
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
Loading...