Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 17, 2022 · 1 min read

कविता : व्रीड़ा

व्रीड़ा

खोया स्वत्व दिवा ने अपना
अंतरतम पीड़ा जागी।
घूँघट नैन छिपाए तब ही
धड़कन में व्रीड़ा जागी।

अधर कपोल अबीर भरे-से
सस्मित हास लुटाती-सी।
सतरंगी-सी चूनर ओढ़े
द्वन्द विरोध मिटाती-सी।

थाम हाथ साजन के कर में
सकुचाती अलबेली-सी
ठिठक सिहर ज़ब पाँव बढ़ा तो
ठाढी रही नवेली-सी।

आई मन में छाई तन में
चौक सिहर सब बंध गए।
हुआ गगन स्वर्णिम आरक्ततिक
खग कलरव निद्वन्द गए।

चपल चमक चपला-सी मन में
मेरे मन को रोक लिया।
कैसे करूँ अभिसार सखी मै
उसने मुझको टोक दिया।।

सुशीला जोशी, विद्योत्तमा
मुजफ्फरनगर उप्र

1 Like · 1 Comment · 40 Views
You may also like:
*कथावाचक श्री राजेंद्र प्रसाद पांडेय 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
✍️अभी उलझे नहीं✍️
"अशांत" शेखर
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
जो मौका रहनुमाई का मिला है
Anis Shah
दिल लगाऊं कहां
Kavita Chouhan
घर घर तिरंगा फहराएंगे
Ram Krishan Rastogi
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
कुएं का पानी की कहानी | Water In The Well...
harpreet.kaur19171
नव गीत
Sushila Joshi
** भावप्रतिभाव **
Dr.Alpa Amin
उड़ जाएगा एक दिन पंछी, धुआं धुआं हो जाएगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गर तू होता क़िताब।
Taj Mohammad
✍️तर्क✍️
"अशांत" शेखर
हे शिव ! सृष्टि भरो शिवता से
Saraswati Bajpai
केंचुआ
Buddha Prakash
वक्त मलहम है।
Taj Mohammad
कर्म में कौशल लाना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️पाँव बढाकर चलना✍️
"अशांत" शेखर
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
अत्याचार
AMRESH KUMAR VERMA
हर लम्हा कमी तेरी
Dr fauzia Naseem shad
तुमसे थी उम्मीद
Anamika Singh
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Manisha Manjari
कवि का कवि से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
दृश्य प्रकृति के
श्री रमण 'श्रीपद्'
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
क्या कोई मुझे भी बताएगा
Krishan Singh
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
Loading...