Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2022 · 1 min read

कविता : व्रीड़ा

व्रीड़ा

खोया स्वत्व दिवा ने अपना
अंतरतम पीड़ा जागी।
घूँघट नैन छिपाए तब ही
धड़कन में व्रीड़ा जागी।

अधर कपोल अबीर भरे-से
सस्मित हास लुटाती-सी।
सतरंगी-सी चूनर ओढ़े
द्वन्द विरोध मिटाती-सी।

थाम हाथ साजन के कर में
सकुचाती अलबेली-सी
ठिठक सिहर ज़ब पाँव बढ़ा तो
ठाढी रही नवेली-सी।

आई मन में छाई तन में
चौक सिहर सब बंध गए।
हुआ गगन स्वर्णिम आरक्ततिक
खग कलरव निद्वन्द गए।

चपल चमक चपला-सी मन में
मेरे मन को रोक लिया।
कैसे करूँ अभिसार सखी मै
उसने मुझको टोक दिया।।

सुशीला जोशी, विद्योत्तमा
मुजफ्फरनगर उप्र

Language: Hindi
3 Likes · 7 Comments · 158 Views
You may also like:
सबके ही आशियानें रोशनी से।
Taj Mohammad
राख
लक्ष्मी सिंह
आरक्षण का दरिया
मनोज कर्ण
जीवन जीने की कला का नाम है
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
प्रियतम
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
तानाशाहों का हश्र
Shekhar Chandra Mitra
■ काव्यात्मक व्यंग्य / एक था शेर.....!!
*Author प्रणय प्रभात*
बेनाम रिश्ता
सोनम राय
नहीं, अब ऐसा नहीं होगा
gurudeenverma198
शिव जी को चम्पा पुष्प , केतकी पुष्प कमल ,...
Subhash Singhai
कहानी "दीपावाली का फटाका" लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा,सूरत, गुजरात।
radhakishan Mundhra
कुछ बारिशें बंजर लेकर आती हैं।
Manisha Manjari
पत्थर दिल
Seema 'Tu hai na'
हे! दिनकर
पंकज कुमार कर्ण
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
एकता
Aditya Raj
अंजाम ए जिंदगी
ओनिका सेतिया 'अनु '
कहमुकरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बुलंदी
shabina. Naaz
गजल सी रचना
Kanchan Khanna
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
Ram Krishan Rastogi
खोलो मन के द्वार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
“ मेरे सपनों की दुनियाँ ”
DrLakshman Jha Parimal
कपालभाती के लाभ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
🍀🌺मैंने हर जगह ज़िक्र किया है तुम्हारा🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अत्याचार अन्याय से लड़ने, जन्मा एक सितारा था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️ये खास सबक है✍️
'अशांत' शेखर
नादानियाँ
Anamika Singh
स्वयं को पहचानना ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
*परम चैतन्य*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...