Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 9, 2022 · 1 min read

कविता – राह नहीं बदलूगां

राह नहीं बदलूंगा
राह नहीं बदलूंगा
————————————–
फुफकारे,
जहर उगले लाख विषधर
मैं अपनी राह नहीं बदलूंगा
तूफानों के आगोश में पला हूं।
आंधियों से कैसे डगमगाउंगा।

खड़ा हूं जिस पथ
वह पथ मेरे रब का है।
चमकती रहे बिजलीयां
गड़गड़ाते रहे बादल।
पीता रहूंगा हलाहल।

वो जानता है
मैं जो कर रहा हूं।
अच्छा कर रहा हूं।
किसी की चापलूसी
या जी हजूरी से
पेट नहीं भर रहा‌ हूं।

बेशक लंबी उड़ान है
उड़ कर दिखाऊंगा।
वो डाले मुझ पर
शनि दृष्टि, हनुमान सा
लंका जलाता जाऊंगा।

यकीन है मुझे यह वक्त है
कभी ठहरता नहीं है।
घर जलाए जो औरों के
दहकती आग में घर उसका
भी कभी बचता नहीं है।

अकेला हूं तो क्या हुआ
समर दुर्योधन नहीं
अर्जुन जीता था।
बस कन्हैया तेरी
गीता मेरा मार्गदर्शन है।
चलता हूं मैं
तेरे बताएं पथ पर
सुदर्शन ही तेरा
मेरा संरक्षक है।

मेरे उसके सबके
गुजर जाने के बाद
लोग खुद बताएंगे
बर्बरीक की तरह।
कौन क्या था
किसकी कितनी थी
औकात।

कौन प्रपंच रचता
शकुनि की तरह
कौन धृतराष्ट्र सा
सब सह जाता था।
कौन थे कायर,कौन
अभिमन्यु कहलाता था।

इतिहास गवाह है
शकुनी कुत्ते की
मौत मारा जाता है।
दुर्योधन दुर तालाब
में मुंह छुपाता है।

इसलिए सब सह कर
धैर्य पूर्वक चलता हूं।
बस विश्वास है
मेरा कान्हा पर
उसी के आगे झुकता हूं।

चतरसिंह गेहलोत
9993803698
csg94245@gmail.com

2 Likes · 1 Comment · 90 Views
You may also like:
तेरे बिन
Harshvardhan "आवारा"
रिश्ते
Saraswati Bajpai
मित्र
जगदीश लववंशी
दुनिया की रीति
AMRESH KUMAR VERMA
* आडे तिरछे अनुप्राण *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लौटे स्वर्णिम दौर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तेरा चलना ओए ओए ओए
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
तमन्नाओं का संसार
DESH RAJ
✍️सूर्यज्वाळा✍️
'अशांत' शेखर
कबीरा...
Sapna K S
✍️कोई बैर नहीं है✍️
'अशांत' शेखर
✍️✍️जिंदगी✍️✍️
'अशांत' शेखर
✍️आदत और हुनर✍️
'अशांत' शेखर
*श्री हुल्लड़ मुरादाबादी 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
ईश्वर का खेल
Anamika Singh
एक ग़ज़ल लिख रहा हूं।
Taj Mohammad
मेरी चुनरिया
DESH RAJ
दर्द तक़सीम कर नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
प्यार करके।
Taj Mohammad
महामोह की महानिशा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गीतायाः पठनं मननं वा प्रभाव:
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सृजन
Prakash Chandra
दिल की ख्वाहिशें।
Taj Mohammad
" स्वतंत्रता क्रांति के सिंह पुरुष पंडित दशरथ झा "
DrLakshman Jha Parimal
भक्त कवि स्वर्गीय श्री रविदेव_रामायणी*
Ravi Prakash
आया जो,वो आएगा
AMRESH KUMAR VERMA
मानवता
Dr.sima
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...