Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

कविता – “मां” -राजीव नामदेव “राना लिधौरी”

*कविता- ” मां”*

जीवन पथ पर
अमिट छाप सी लगती है।
अनुभव की रेखाएं
अब माथे पर दिखती है।

दाढ़ी और बत्तीसी भी तो,
अब हिलने लगती है।
सिर पर सफेद चांदी सजी,
अनुभव की मोहर लगती है।

देखा सब कुछ इन आंखों ने,
अब थकन सी लगती है।
मुझे तो यह माता यशोदा,
मरियम, टैरेसा लगती है।।
###
*@ राजीव नामदेव “राना लिधौरी” टीकमगढ़*
संपादक “आकांक्षा” पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com
Blog-rajeevranalidhori.blogspot.com

122 Views
You may also like:
प्रकृति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️गर्व करो अपना यही हिंदुस्थान है✍️
"अशांत" शेखर
न्याय
Vijaykumar Gundal
“NEW ABORTION LAW IN AMERICA SNATCHES THE RIGHT OF WOMEN”
DrLakshman Jha Parimal
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
जग
AMRESH KUMAR VERMA
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
साजिश अपने ही रचते हैं
gurudeenverma198
चढ़ता पारा
जगदीश शर्मा सहज
रुक्सत रुक्सत बदल गयी तू
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
'विश्व जनसंख्या दिवस'
Godambari Negi
चाँद ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
ऐसा ही होता रिश्तों में पिता हमारा...!!
Taj Mohammad
आतुरता
अंजनीत निज्जर
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
=*तुम अन्न-दाता हो*=
Prabhudayal Raniwal
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना "मुसाफिर"
Ravi Prakash
मुझको मालूम नहीं
gurudeenverma198
पर्यावरण बचाओ रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नामालूम था नादान को।
Taj Mohammad
शोर मचाने वाले गिरोह
Anamika Singh
ਆਹਟ
विनोद सिल्ला
इन ख़यालों के परिंदों को चुगाने कब से
Anis Shah
मेरा दिल हमेशा।
Taj Mohammad
जख्म
Anamika Singh
गीतायाः पठनं मननं वा प्रभाव:
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
फरियाद
Anamika Singh
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
सब्जी की टोकरी
Buddha Prakash
मां के तट पर
जगदीश लववंशी
Loading...