Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Sep 2016 · 1 min read

‘ देख जवानों की कुर्बानी’

देख जवानों की कुर्बानी
आज तिरंगा भी रोया है ।
जाग उठा जनमत भारत का
बीज एकता का बोया है ।
रोष है छाया अब लो बदला
शोर मचा है अब करो हमला ।
भावुक हर दिल हो रहा है
खून के आँसू रो रहा है ।
देश की संसद तुम भी जागो
दल दल के विरोध को त्यागो ।
एकमत होकर आदेश करो
जनमत का सब रोष हरो ।
बार बार यूँ खूनी हमला
जनता सह न पाएगी ,
आखिर कब तक दानवता से मानवता ,
अहिंसा के चोले में मुँह छिपाएगी ?
कितनी बलि दे दीं निर्दोषों की
कितनी और अभी देनी हैं ?
संसद बतला दो अब सेना को
क्या भूमिका उसे निभानी है ।
आदेश करो बदला लेने का
हड़पी भूमि भी अब ले डालो ,
अखंड करो फिर से भारत को
वीरता अपनी सजा डालो ।
देश के जवानों की वीरता
उनका सुंदर गहना है ,
मातृभूमि की रक्षा हेतु ही
उसको उन्होंने पहना है ।
कायरों के हाथों सोते हमले में
व्यर्थ न उसको जाने दो ,
मातृभूमि की रक्षा का सपना
उनका पूरा होने दो ।

डॉ रीता सिंह
एफ 11 फेज़ 6
आया नगर,नई दिल्ली ।

Language: Hindi
Tag: कविता
342 Views
You may also like:
✍️मेरा हमशक्ल है ✍️
'अशांत' शेखर
भारतीय महीलाओं का महापर्व हरितालिका तीज है।
आचार्य श्रीराम पाण्डेय
बद्दुआ गरीबों की।
Taj Mohammad
* साम वेदना *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हिजाब विरोधी आंदोलन
Shekhar Chandra Mitra
हसरतें थीं...
Dr. Meenakshi Sharma
चली चली रे रेलगाड़ी
Ashish Kumar
गीतायाः पठनं मननं वा प्रभाव:
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरा बचपन
Alok Vaid Azad
पाखंडी मानव
ओनिका सेतिया 'अनु '
आपकी तरहां मैं भी
gurudeenverma198
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
आईना झूठ लगे
VINOD KUMAR CHAUHAN
दुर्घटना का दंश
DESH RAJ
मजदूर की अंतर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
!! समय का महत्व !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
वीर
लक्ष्मी सिंह
किसी के वास्ते
Dr fauzia Naseem shad
*ध्यान में निराकार को पाना (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
नूर का चेहरा सरापा नूर बैठी है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जादूगर......
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मधुशाला अभी बाकी है ।।
Prakash juyal 'मुकेश'
मै हिम्मत नही हारी
Anamika Singh
इंतजार मत करना
Rakesh Pathak Kathara
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
सरकारी चिकित्सक
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
तू क्या सोचता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तेरा साथ मुझको गवारा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...