Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

कविता??लेना हौंसले से काम??

आएंगी मुसीबतें,लेना हौसले से काम।
ज़िंदगी संघर्ष है,मिलता नहीं आराम।।

उम्रे-तम है लम्बी,खुशी के कम पैग़ाम।
ग़म में हँसना सीखा, खुशी हुई ग़ुलाम।।

पकंज चाहे जग,लो इससे सीख बड़ी।
रात में चाँद-सा हँसना,है ज़िंदगी नाम।।

काँटे चुभे कलियाँ खिलें न घबराना तुम।
उगते सूरज को ही,ये जग करे सलाम।।

तन्हा चलोगे एकदिन काफ़िला बनेगा।
हर ज़ुबां पर होगा,एक तेरा ही बस नाम।।

“प्रीतम”तेरे हौसले को,सज़दा करूं सदा।
ग़म मिला कभी,किया मुस्क़रा एहतराम।।

राधेश्याम बंगालिया “प्रीतम”
सर्वाधिकार सुरक्षित
****,***************

144 Views
You may also like:
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बरसात
मनोज कर्ण
तुम वही ख़्वाब मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
पिता
लक्ष्मी सिंह
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
गीत
शेख़ जाफ़र खान
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
Loading...