Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

कविता। वही गुरु है अध्यापक है न कि कोई दग़ा पड़ाका ।

जीवन मे शिक्षक की अनिवार्यता , एवं शिक्षक के कार्य व्यवहार पर प्रश्न उठाने वालों के प्रति
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,, कविता । ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

आई दिवाली दगा पड़ाका
उठती डोली दगा पड़ाका
रण की भेरी दगा पड़ाका
खोखला होकर दगा पड़ाका
फिर तो यही पड़ाका ।
कैसे दगा पड़ाका ?

आसपास तक दगा पड़ाका
फुस हो जाता दगा पड़ाका
रंग –बिरंगा दगा पड़ाका
जलते जलते दगा पड़ाका
शायद यही पड़ाका !
हा हा यही पड़ाका ।

नही नही यह दिग्दर्शक है
कभी नही यह निरर्थक है
सफलता का प्रदर्शक है
भावों का यह आकर्षक है
सबने जिसको ताका ।
फिर क्यों दगा पड़ाका ?

करना क्या है इसका परिचय
कर्तव्यों का करता संचय
सदा इसी कि होती है जय
फिर क्यों बदल गया है आशय
कह तो दिये भड़ाका ।
कैसे दगा पड़ाका ?

छोटे छोटे कणों से निर्मित
भोली भाली जिसकी परिमित
मानवता से जो है सीमित
स्नेहिल धागों से बाधित
होता जिसका खाका ।
कैसे दगा पड़ाका ?

यह तो है गर्मी मे छाह
यही सफलता की इक राह
यह समता की एक निगाह
आदर ही बस इसकी चाह
समाजिकता का आँका ।
कैसे दगा पड़ाका ?

अन्धकार का करता नाश
यह जलकर देता प्रकाश
भरता जाता है उल्लास
विफल नही इसका प्रयास
सूचक विजय पताका ।
सच मे यही पड़ाका !!

जिसनें त्यागा जीवन अपना
उसका क्या कोई है सपना
जीवन भर जिसको है तपना
फिर क्या उसके दिल का नपना
क्या डाल रहा है डाका ।
तब क्यों दगा पड़ाका ?

जीवन भर मे जो व्यापक है
उसको निज जीवन का हक है
वही गुरू है अध्यापक है
फिर कैसे इतना घातक है
बाल न करता बांका ।
यह तो नही पड़ाका !

जिसका है अपघर्षण होत
जो ऊर्जा, ऊर्जा का स्रोत
आवेशों से ओतप्रोत
यह न कोई है खद्योत
सीमित नही इलाका ।
तब क्यों दगा पड़ाका ?

जीवन भर जीवन के बाद
नही बन सकेगा अपवाद
दोनो मे कैसा विवाद
व्यर्थ करो न अब संवाद
लेकर कोई ठहाका ।
कैसे दगा पड़ाका ?

राम केश मिश्र

185 Views
You may also like:
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Dr. Kishan Karigar
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तू नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
समय ।
Kanchan sarda Malu
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Meenakshi Nagar
पिता
Meenakshi Nagar
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पिता
Saraswati Bajpai
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
Loading...