Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2022 · 1 min read

कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी

कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी,
ब्रेक लागत रहे पर बढ़े जिंदगी।

काल गति आ समय के मिला के चलीं,
जिंदगी तऽ हवे इक सुहाना सफर।
राह के बीच में गर चढ़ाई मिले,
तब लगाईं सुनीं रउआ पहिला गियर।
धैर्य के बल से परबत चढ़े जिंदगी।
ब्रेक लागत रहे पर बढ़े जिंदगी।।
कवनो गाड़ी तरे…………..….

आगे पीछे अगल आ बगल देख लीं,
सब केहू ना इहाँ होश में अब चले।
रोड खाली मिले तऽ चलीं तेज पर,
ब्रेकरो बा बहुत ध्यान में ई रहे।
बा रुकावट भले ना रुके जिंदगी।
ब्रेक लागत रहे पर बढ़े जिंदगी।।
कवनो गाड़ी तरे………………

आपदा के बदे कुछ बचा के रखीं,
कहि के आवे कहाँ कहियो संकट नया।
का पता राह में कब जरूरत पड़े,
तेल रीजर्व में रउआ राखीं सदा।
कुछ रहे हाँथ में तब लड़े जिंदगी।
ब्रेक लागत रहे पर बढ़े जिंदगी।।
कवनो गाड़ी तरे……………….

देहि दुनिया में सबसे ई अनमोल बा,
येइमें कवनो खराबी ना आवे कहीं।
राह कइसे चलबि कुछ बिगड़ जे गइल,
सर्विसिंङ्गो समय से करावत रहीं।
तन निरोगी रहे ना झुके जिंदगी।
ब्रेक लागत रहे पर बढ़े जिंदगी।।
कवनो गाड़ी तरे………………

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 12/04/2022

Language: Bhojpuri
Tag: गीत
3 Likes · 5 Comments · 792 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्वयं में ईश्वर को देखना ध्यान है,
स्वयं में ईश्वर को देखना ध्यान है,
Suneel Pushkarna
हम हँसते-हँसते रो बैठे
हम हँसते-हँसते रो बैठे
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
"दूसरा मौका"
Dr. Kishan tandon kranti
मिसाल
मिसाल
Kanchan Khanna
*चंदा दल को दीजिए, काला धन साभार (व्यंग्य कुंडलिया)*
*चंदा दल को दीजिए, काला धन साभार (व्यंग्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अयोध्या धाम
अयोध्या धाम
विजय कुमार अग्रवाल
जता दूँ तो अहसान लगता है छुपा लूँ तो गुमान लगता है.
जता दूँ तो अहसान लगता है छुपा लूँ तो गुमान लगता है.
शेखर सिंह
जो संतुष्टि का दास बना, जीवन की संपूर्णता को पायेगा।
जो संतुष्टि का दास बना, जीवन की संपूर्णता को पायेगा।
Manisha Manjari
नवयुग का भारत
नवयुग का भारत
AMRESH KUMAR VERMA
दिखता अगर फ़लक पे तो हम सोचते भी कुछ
दिखता अगर फ़लक पे तो हम सोचते भी कुछ
Shweta Soni
माँ की दुआ
माँ की दुआ
Anil chobisa
तेरी यादों की खुशबू
तेरी यादों की खुशबू
Ram Krishan Rastogi
*प्रकृति-प्रेम*
*प्रकृति-प्रेम*
Dr. Priya Gupta
मैं शब्दों का जुगाड़ हूं
मैं शब्दों का जुगाड़ हूं
भरत कुमार सोलंकी
जिदंगी भी साथ छोड़ देती हैं,
जिदंगी भी साथ छोड़ देती हैं,
Umender kumar
निरंतर प्रयास ही आपको आपके लक्ष्य तक पहुँचाता hai
निरंतर प्रयास ही आपको आपके लक्ष्य तक पहुँचाता hai
Indramani Sabharwal
■ जानवर कहीं के...!!
■ जानवर कहीं के...!!
*Author प्रणय प्रभात*
इश्क की रूह
इश्क की रूह
आर एस आघात
पर्वत 🏔️⛰️
पर्वत 🏔️⛰️
डॉ० रोहित कौशिक
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
Basant Bhagawan Roy
सीनाजोरी (व्यंग्य)
सीनाजोरी (व्यंग्य)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
24/235. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/235. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम आये तो हमें इल्म रोशनी का हुआ
तुम आये तो हमें इल्म रोशनी का हुआ
sushil sarna
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मसरूफियत बढ़ गई है
मसरूफियत बढ़ गई है
Harminder Kaur
किताब
किताब
Neeraj Agarwal
मेरी जीत की खबर से ऐसे बिलक रहे हैं ।
मेरी जीत की खबर से ऐसे बिलक रहे हैं ।
Phool gufran
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
देश का दुर्भाग्य
देश का दुर्भाग्य
Shekhar Chandra Mitra
चमत्कार को नमस्कार
चमत्कार को नमस्कार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...