Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 26, 2016 · 1 min read

कल

ना आज मै कल है,
ना कल मै कल है,
ना जीत मै कल है,
ना हार मै कल है,
ना आप मै कल है,
ना मुझमे कल है,
ना सत्य मै कल है,
ना झुट मै कल है,
ना परम्परा मै कल है,
ना धर्मों मै कल है,
ना इस देश मै कल है,
ना इसके पार कल है,
कल तो सतत, सॅंघष् , मेहनत
मै है l

235 Views
You may also like:
तुम ही ये बताओ
Mahendra Rai
नमन!
Shriyansh Gupta
धरती माँ का करो सदा जतन......
Dr. Alpa H. Amin
माँ तुम सबसे खूबसूरत हो
अनामिका सिंह
💐💐प्रेम की राह पर-10💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
अभी दुआ में हूं बद्दुआ ना दो।
Taj Mohammad
Heart Wishes For The Wave.
Manisha Manjari
नीति प्रकाश : फारसी के प्रसिद्ध कवि शेख सादी द्वारा...
Ravi Prakash
मंदिर
जगदीश लववंशी
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
इक दिल के दो टुकड़े
D.k Math
यह कैसा एहसास है
Anuj yadav
हक़ीक़त
अंजनीत निज्जर
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
की बात
AJAY PRASAD
“ विश्वास की डोर ”
DESH RAJ
पिता का पता
श्री रमण
हर ख़्वाब झूठा है।
Taj Mohammad
✍️पैरो तले ज़मी✍️
"अशांत" शेखर
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*सादा जीवन उच्च विचार के धनी कविवर रूप किशोर गुप्ता...
Ravi Prakash
भाइयों के बीच प्रेम, प्रतिस्पर्धा और औपचारिकताऐं
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
✍️जिंदगी क्या है...✍️
"अशांत" शेखर
!!! राम कथा काव्य !!!
जगदीश लववंशी
प्रेम की पींग बढ़ाओ जरा धीरे धीरे
Ram Krishan Rastogi
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हाय गर्मी!
Manoj Kumar Sain
Loading...