Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2023 · 1 min read

कल भी वही समस्या थी ,

कल भी वही समस्या थी ,
आज भी वही समस्या ।
रोटी कपड़ा और मकान ,
हर युग की प्रचंड समस्या ।

89 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from ओनिका सेतिया 'अनु '

You may also like:
हे मृत्यु तैयार यदि तू आने को प्रसन्न मुख आ द्वार खुला है,
हे मृत्यु तैयार यदि तू आने को प्रसन्न मुख आ द्वार खुला है,
Vishal babu (vishu)
Wo veer purta jo rote nhi
Wo veer purta jo rote nhi
Sakshi Tripathi
अनमोल घड़ी
अनमोल घड़ी
Prabhudayal Raniwal
गीत
गीत
Kanchan Khanna
खून दोगे तुम अगर तो मैं तुम्हें आज़ादी दूँगा
खून दोगे तुम अगर तो मैं तुम्हें आज़ादी दूँगा
Dr Archana Gupta
सेवा-भाव उदार था, विद्यालय का मूल (कुंडलिया)
सेवा-भाव उदार था, विद्यालय का मूल (कुंडलिया)
Ravi Prakash
तुमसे उम्मीद थी कि
तुमसे उम्मीद थी कि
gurudeenverma198
अलाव
अलाव
Surinder blackpen
मतिभ्रष्ट
मतिभ्रष्ट
Shyam Sundar Subramanian
कौन हूँ
कौन हूँ
Kavita Chouhan
शंकर हुआ हूँ (ग़ज़ल)
शंकर हुआ हूँ (ग़ज़ल)
Rahul Smit
रहे हरदम यही मंजर
रहे हरदम यही मंजर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
एक सन्त: श्रीगुरु तेग बहादुर
एक सन्त: श्रीगुरु तेग बहादुर
Satish Srijan
मैं राम का दीवाना
मैं राम का दीवाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
परिचय
परिचय
Pakhi Jain
तोड देना वादा,पर कोई वादा तो कर
तोड देना वादा,पर कोई वादा तो कर
Ram Krishan Rastogi
पृथ्वीराज
पृथ्वीराज
Sandeep Pande
इतनी फुर्सत है कहां, जो करते हम जाप
इतनी फुर्सत है कहां, जो करते हम जाप
सूर्यकांत द्विवेदी
” SALUTE TO EVERYONE ON ARMY DAY “
” SALUTE TO EVERYONE ON ARMY DAY “
DrLakshman Jha Parimal
■ बस दो सवाल...
■ बस दो सवाल...
*Author प्रणय प्रभात*
वह दौर भी चिट्ठियों का अजब था
वह दौर भी चिट्ठियों का अजब था
श्याम सिंह बिष्ट
💐अज्ञात के प्रति-138💐
💐अज्ञात के प्रति-138💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम हैं क्योंकि वह थे
हम हैं क्योंकि वह थे
Shekhar Chandra Mitra
मैं अपने दिल में मुस्तकबिल नहीं बनाऊंगा
मैं अपने दिल में मुस्तकबिल नहीं बनाऊंगा
कवि दीपक बवेजा
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
Shashi kala vyas
वर्णमाला
वर्णमाला
Abhijeet kumar mandal (saifganj)
कहाँ छूते है कभी आसमाँ को अपने हाथ
कहाँ छूते है कभी आसमाँ को अपने हाथ
'अशांत' शेखर
सलाम भी क़ुबूल है पयाम भी क़ुबूल है
सलाम भी क़ुबूल है पयाम भी क़ुबूल है
Anis Shah
⚘️महाशिवरात्रि मेरे लेख🌿
⚘️महाशिवरात्रि मेरे लेख🌿
Ms.Ankit Halke jha
Loading...