Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 2, 2022 · 1 min read

कल जब हम तुमसे मिलेंगे

कल जब हम तुमसे मिलेंगे,
रिक्तता जो है घिरी
सब साथ लेकर आयेंगे ।
प्रीत भरकर रिक्तता में
साथ लेकर जायेंगे ।
कल जब ……
ऐसा लगता दूर तुमसे
होके सब जड़ हो रहा है ।
अंग भी कुछ शिथिल ऐसे ।
रक्त जैसे जम गया है ।
कांपता मन शीत सा
स्वप्न सब भयभीत है ।
कल जब हम तुमसे मिलेंगे
सब शीत लेकर आयेंगे ।
भरकर उष्मा शीत में
सब संग लेकर जायेंगे ।
रोप लेंगे तन में मन में
प्रेम की उष्मा गहन
और उस उष्मा से ही
आशांकुर खिलाएंगे ।
कल जब हम तुमसे मिलेंगे
खुद को ही संग लायेंगे ।
और संग तुमको करेंगे
संग लेकर जायेंगे ।
जब रहोगे संग तुम
ज्वाल न मन को दहेंगे ।
तमस जो हमको डराते
वो कहीं फिर जा छिपेंगे ।
कल जब हम तुमसे मिलेंगे
एक प्राण हम हो जायेंगे ।
आने जाने का ये व्युत्क्रम
अब नहीं दोहरायेंगे ।
कल जब ……..

1 Like · 90 Views
You may also like:
*मतलब डील है (गीतिका)*
Ravi Prakash
मैं उनको शीश झुकाता हूँ
Dheerendra Panchal
महान गुरु श्री रामकृष्ण परमहंस की काव्यमय जीवनी (पुस्तक-समीक्षा)
Ravi Prakash
" सरोज "
Dr Meenu Poonia
कुरान की आयत।
Taj Mohammad
*आचार्य बृहस्पति और उनका काव्य*
Ravi Prakash
भारतवर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
श्री अग्रसेन भागवत ः पुस्तक समीक्षा
Ravi Prakash
पिता
Surabhi bharati
खेतों की मेड़ , खेतों का जीवन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
शेर
dks.lhp
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
मै जलियांवाला बाग बोल रहा हूं
Ram Krishan Rastogi
मुस्कुराएं सदा
Saraswati Bajpai
खाली पैमाना
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️कबीरा बोल...✍️
"अशांत" शेखर
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गीत - मुरझाने से क्यों घबराना
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
ये कैसा बेटी बाप का रिश्ता है?
Taj Mohammad
शोर मचाने वाले गिरोह
Anamika Singh
जिन्दगी है हमसे रूठी।
Taj Mohammad
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
"ममता" (तीन कुण्डलिया छन्द)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ठोकर तमाम खा के....
अश्क चिरैयाकोटी
जीने का नजरिया अंदर चाहिए।
Taj Mohammad
स्थापना के 42 वर्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल से निकले हुए कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
Loading...