Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Nov 2022 · 2 min read

कल्पना एवं कल्पनाशीलता

कल्पना संभावनाओं की मानसिक रचना है ।
मनुष्य का मस्तिष्क तीव्र गति से चलायमान रहता है। यह हर समय सोते -जागते चलता ही रहता है । जिसमें कल्पनाओं की सतत् उत्पत्ति होती रहती है। कल्पनाशीलता के दो पक्ष हैं :
प्रथम सार्थक पक्ष, इसमें किसी विशेष विषय में चिंतन एवं विश्लेषण एवं अंतर्निहित ज्ञान एवं आत्म तर्कों की कसौटी पर निष्कर्ष पर पहुंचना सम्मिलित है। अन्वेषण एवं अनुसंधान का आधार इस पक्ष की श्रेणी में आता है।
परिकल्पनाओं की उत्पत्ति एवं उनकी सत्यता का वास्तविकता के परिपेक्ष्य में चिंतन, तथा यथार्थ एवं अनुमान के अंतर को स्पष्ट करना इसमें प्रमुख है।
पूर्वानुभव एवं निहित प्रज्ञा की तीव्रता इस पक्ष के प्रमुख कारक हैं।
आत्म परिमार्जन हेतु आत्म विश्लेषण एवं चिंतन भी सार्थक कल्पनाशीलता के प्रमुख लक्षण हैं।
कल्पनाओं का सकारात्मक रूप सार्थक मंथन की श्रेणी में आता है।
कल्पनाशीलता का द्वितीय पक्ष यथार्थ से परे पूर्वाग्रह एवं धारणाओं से निर्मित मस्तिष्क के आभासी मंच पर निर्मित रचनाओं से संदर्भित है।
अधिकांशतः इसमें नकारात्मक चिंतन की अधिकता रहती है एवं सकारात्मक विचारों का अभाव होता है। इस प्रकार की कल्पना का आधार कही सुनी बातों पर एवं समूह मानसिकता से प्रेरित रहता है , तथा इनमें स्वीकार्य तथ्यों का अभाव रहता है।
कल्पनाशीलता मनुष्य का स्वाभाविक गुण है , जो भावनाओं एवं धारणाओं से प्रभावित होता है।
किसी व्यक्ति विशेष के अंतर्निहित संस्कार , बाह्य वातावरण ,जीवन की घटनाओं से सकारात्मक एवं नकारात्मक अनुभूति का प्रत्यक्ष एवं परोक्ष प्रभाव जो उसके मस्तिष्क पड़ता है , इन सभी कारको से उसकी कल्पनाशीलता प्रभावित होती है।
सकारात्मक कल्पनाशीलता कला एवं विज्ञान के क्षेत्र में सृजनात्मक विचारों को जन्म देती है ,
जिससे इन क्षेत्रों में असाधारण सृजनात्मक प्रतिभाओं का जन्म होता है।

1 Like · 58 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from Shyam Sundar Subramanian

You may also like:
मोबाइल फोन
मोबाइल फोन
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
विनाश की जड़ 'क्रोध' ।
विनाश की जड़ 'क्रोध' ।
Buddha Prakash
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
प्रेमदास वसु सुरेखा
Colours of heart,
Colours of heart,
DrChandan Medatwal
किसान,जवान और पहलवान
किसान,जवान और पहलवान
Aman Kumar Holy
ख़ुदी के लिए
ख़ुदी के लिए
Dr fauzia Naseem shad
अंध विश्वास एक ऐसा धुआं है जो बिना किसी आग के प्रकट होता है।
अंध विश्वास एक ऐसा धुआं है जो बिना किसी आग के प्रकट होता है।
Rj Anand Prajapati
*श्री महेश राही जी (श्रद्धाँजलि/गीतिका)*
*श्री महेश राही जी (श्रद्धाँजलि/गीतिका)*
Ravi Prakash
चौथ का चांद
चौथ का चांद
Dr. Seema Varma
अमीर-ग़रीब वर्ग दो,
अमीर-ग़रीब वर्ग दो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐 Prodigy Love-4💐
💐 Prodigy Love-4💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विश्वास का धागा
विश्वास का धागा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कभी-कभी वक़्त की करवट आपको अचंभित कर जाती है.......चाहे उस क
कभी-कभी वक़्त की करवट आपको अचंभित कर जाती है.......चाहे उस क
Seema Verma
■ एक और शेर...
■ एक और शेर...
*Author प्रणय प्रभात*
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
लोकतंत्र का मंत्र
लोकतंत्र का मंत्र
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
एक तेरे प्यार का प्यारे सुरूर है मुझे।
Neelam Sharma
प्यासा मन
प्यासा मन
नेताम आर सी
माँ का महत्व
माँ का महत्व
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
The jaurney of our life begins inside the depth of our mothe
The jaurney of our life begins inside the depth of our mothe
Sakshi Tripathi
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
gurudeenverma198
तहरीर
तहरीर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक काफ़िर की दुआ
एक काफ़िर की दुआ
Shekhar Chandra Mitra
नींद
नींद
Diwakar Mahto
माँ तुझे प्रणाम
माँ तुझे प्रणाम
Sumit Ki Kalam Se Ek Marwari Banda
मां होती है
मां होती है
Seema gupta,Alwar
इश्क़ ला हासिल का हासिल कुछ नहीं
इश्क़ ला हासिल का हासिल कुछ नहीं
shabina. Naaz
अब सुनता कौन है
अब सुनता कौन है
जगदीश लववंशी
खूब उड़ रही तितलियां
खूब उड़ रही तितलियां
surenderpal vaidya
माँ भारती वंदन
माँ भारती वंदन
Kanchan Khanna
Loading...