Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2016 · 1 min read

*कलियुग*

गफलत में है सो रहा कलियुग का इंसान
पूजा पत्थर की करे मान इसे भगवान
*धर्मेन्द्रअरोड़ा*

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

तोल सदा ही बोलिये,मुख से मीठे बोल
हीरा जनम अमोल है,माटी में ना रोल
*धर्मेन्द्रअरोड़ा*

Language: Hindi
Tag: दोहा
201 Views
You may also like:
गीत - प्रेम असिंचित जीवन के
Shivkumar Bilagrami
# कभी कांटा , कभी गुलाब ......
Chinta netam " मन "
मैथिली मुक्तक / मैथिली शायरी (Maithili Muktak / Maithili Shayari)
Binit Thakur (विनीत ठाकुर)
पंचैती
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
तुमसे अब मैं क्या छुपाऊँ
gurudeenverma198
इश्क की खुशबू।
Taj Mohammad
ईर्ष्या
Saraswati Bajpai
वो पहलू में आयें तभी बात होगी।
सत्य कुमार प्रेमी
बेवफाई
Dalveer Singh
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
मैं वट हूँ
Rekha Drolia
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
✍️✍️रंग✍️✍️
'अशांत' शेखर
*अभी तो घोंसले में है, विहग के पंख खुलने दो...
Ravi Prakash
सोच की निर्बलता
Dr fauzia Naseem shad
Corporate Mantra of Politics
AJAY AMITABH SUMAN
मुंडा तेनू फाॅलो करदा
Swami Ganganiya
पागल हूं जो दिन रात तुझे सोचता हूं।
Harshvardhan "आवारा"
प्रेम कविता
Rashmi Sanjay
कलाम को सलाम
Satish Srijan
संत साईं बाबा 🙏🏻
Pravesh Shinde
गीत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गज़ल
Krishna Tripathi
हौसला क़ायम रहे
Shekhar Chandra Mitra
■ मुक्तक / मशवरा
*Author प्रणय प्रभात*
प्रश्न चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
इतिहास लिखना है
Shakti Tripathi Dev
दुर्गा पूजा विषर्जन
Rupesh Thakur
नफरत के कांटे
shabina. Naaz
हठीले हो बड़े निष्ठुर
लक्ष्मी सिंह
Loading...