Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#11 Trending Author

कला के बिना जीवन सुना ..

कला के बिन जीवन सुना,
कला न हो तो हर गम हो जाए दूना।

कला हो पास जिसके तो ,
हर नकारात्मकता दूर भागे ।
कोई बुराई ,कोई भय या फिक्र ,
मनुष्य के मन मस्तिष्क में न जागे ।

मन मस्तिष्क लगा रहे यदि ,
रचनात्मकता के सुन्दर संसार में ।
दिन दुनिया की होश न रहे,
खोया रहे अपने ही संसार में ।

संगीत प्रेमी है यदि वो ,
नई नई स्वर लहरियों की रचना करे।
अपनी मधुर आवाज और साज से,
ईश्वर और दुनिया सबको मोहित करे।

नृत्य कला में जिसका मन ,
वोह भाव भंगिमाओं से रंग भरे ।
सुन्दर चेष्टाओ और मुद्राओं से ,
तन और मन को संगीत से एकाकार करे।

चित्र कला है रंगों का संगम ,
निर्जीव वस्तु में भी जान डाल दे ।
बोल उठे सभी रंग अपनी पूरी आभा संग ,
सारी चेतना जब कलाकार को डुबो दे।

कलाकार तो कलाकार है ,
ईश्वर की सुन्दर एक कृति ।
ईश्वर अपितु स्वयं एक कलाकार है ,
बनाई जिसने सुन्दर सृष्टि की आकृति ।

तभी तो कला और कलाकार को,
स्वयं ईश्वर का वरदान प्राप्त है।
कलाकार है सबसे महान जगत में ,
जिसके पास अपनी एक अनूठी कला है।

जिसके पास होगी कोई भी कला ,
तो हर वो मनुष्य कलाकार है ।
कला के संयोजन से जीवन धन्य ,
और मृत्यु के पश्चात भी यादगार है।

कला शाश्वत है अमर है ,
नश्वर है यह जग सारा ।
कला कलाकार को भी अमर करती ,
उसके पद चिन्हों पर चले जग सारा।

कला जीवन का दूर करे अंधियारा,
पथ प्रदर्शक बनकर राह दिखाए ।
जब हो कोई संताप या दुख क्लेश ,
इसके पहलू में आकर सब गुम हो जाए ।

कला है मां शारदे की वीणा से निकली मधुर तान ,
और गीत ,संगीत और साहित्य रचना,
सभी में मां शारदे का स्वरूप विद्यमान ।
संपत्ति से तौलकर इसे दूषित मत करो ,
और न ही करो किसी प्रकार का अभिमान ।

कला के संसर्ग मनुष्य मनुष्य नहीं रहता ,
देवता बन जाता है ।
इसीलिए हर कलाकार को सबसे पहले ,
एक आदर्श मनुष्य बनना आवश्यक है ।
तभी उसका जीवन धन्य और पूजनीय बन जाता है ।

1 Like · 2 Comments · 122 Views
You may also like:
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
ये पहाड़ कायम है रहते ।
Buddha Prakash
तुम निष्ठुर भूल गये हम को, अब कौन विधा यह...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
【25】 *!* विकृत विचार *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️सलं...!✍️
"अशांत" शेखर
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
बेरूखी
Anamika Singh
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
अमर काव्य हर हृदय को, दे सद्ज्ञान-प्रकाश
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️डर काहे का..!✍️
"अशांत" शेखर
फास्ट फूड
Utsav Kumar Aarya
एक मजदूर
Rashmi Sanjay
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
You are my life.
Taj Mohammad
माँ की महिमाँ
Dr. Alpa H. Amin
आदर्श पिता
Sahil
दिल का मोल
Vikas Sharma'Shivaaya'
पापा की परी...
Sapna K S
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
!! ये पत्थर नहीं दिल है मेरा !!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
छोटी-छोटी चींटियांँ
Buddha Prakash
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अकेलापन
AMRESH KUMAR VERMA
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कर्म
Rakesh Pathak Kathara
खाली मन से लिखी गई कविता क्या होगी
Sadanand Kumar
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
खोलो मन की सारी गांठे
Saraswati Bajpai
अजीब कशमकश
Anjana Jain
Loading...