Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#1 Trending Author
May 15, 2022 · 1 min read

कलयुग का आरम्भ है।

जीवन में रिश्तों की डोर बड़ी नाजुक होती है।
इसकी प्रत्येक गांठ सबक देती है।।
उतार चढ़ाव तो जीवन में लगा ही रहता है।
हर कोई यही परिभाषा इसकी देता है।।

स्वार्थमयी जीवन हितकारी हुआ है।
बातों से मनुष्य विषधारी हुआ है।।
ये तो कलयुग का आरम्भ है।
प्रथ्वी पर जैसे ईश्वर का प्रतिबंध है।।

पापों से वसुंधरा भी डगमगा रही है।
कैसी थी कैसी हो गई,सिसका रही है।।
मनुष्य स्वयं को ईश्वर कह रहा है।
अपने धन पर आपार घमंड कर रहा है।।

लोक लज्जा में मनुष्यता भरमाई है।
इन्सानियत खत्म होने पर आई है।।
मनुष्य केवल धन दौलत के निर्माण में लगा है।
हर ह्रदय जैसे पाषाण हो चुका है।।

जीवन की यह कैसी परिभाषा है।
स्वार्थ ही बस सबकी ह्रदय की अभिलाषा है।।
अब उषा में ना सुबह होती है।
सूर्य किरण अब ना मनुष्य की आंख खोलती है।।

मोक्ष को कोई जतन ना करता है।
अब ना कोई सत्य की खोज को निकलता है।।
मैं सर्वोपरी हूं यही सबको लगता है।
अब ना गुरु शिष्य का रिश्ता मिलता है।।

ईश्वर भी निद्रा में जैसे गए है।
कितना भी पुकारो अब ना सुनते है।।
इस आरंभ का क्या अंत हो कोई क्या जाने।
कहना सुनना सब व्यर्थ हुआ मनुष्य केवल अपनी माने।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

2 Likes · 4 Comments · 63 Views
You may also like:
सुहावना मौसम
AMRESH KUMAR VERMA
✍️इंतज़ार के पल✍️
"अशांत" शेखर
*सादा जीवन उच्च विचार के धनी कविवर रूप किशोर गुप्ता...
Ravi Prakash
जो... तुम मुझ संग प्रीत करों...
Dr. Alpa H. Amin
यूं काटोगे दरख़्तों को तो।
Taj Mohammad
जाको राखे साईयाँ मार सके न कोय
Anamika Singh
✍️मैं एक मजदुर हूँ✍️
"अशांत" शेखर
"मेरे पापा "
Usha Sharma
नर्सिंग दिवस पर नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️स्टेचू✍️
"अशांत" शेखर
कोहिनूर
Dr.sima
सिंधु का विस्तार देखो
surenderpal vaidya
सफर
Anamika Singh
💐नव ऊर्जा संचार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खुश रहना
dks.lhp
पुस्तक
AMRESH KUMAR VERMA
सुमंगल कामना
Dr.sima
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
✍️मैं और वो..(??)✍️
"अशांत" शेखर
इन नजरों के वार से बचना है।
Taj Mohammad
✍️वो कहना ही भूल गया✍️
"अशांत" शेखर
🌺🌺प्रेम की राह पर-9🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तितली सी उड़ान है
VINOD KUMAR CHAUHAN
ना चीज़ हो गया हूँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
उपज खोती खेती
विनोद सिल्ला
पुरी के समुद्र तट पर (1)
Shailendra Aseem
अभिलाषा
Anamika Singh
हमदर्द कैसे-कैसे
Shivkumar Bilagrami
प्यारा भारत
AMRESH KUMAR VERMA
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...