Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 6, 2022 · 1 min read

कलम

कलम हम विद्यार्थियों की
होती कृपादृष्टि , उत्कंठा
इन्हीं से करते लिखा-पढ़ी
इनका दत्तांश बड़ा अलभ्य।

यही हमे सबकुछ मँजवाती
इस भगदड़ की जिंदगानी में
हयात जीने से लेकर के हमें
देहावसन तक देती कई ज्ञान ।

पढ़ने लिखने वालों को यह
देती सबों को प्रतिष्ठा कलम
यही हमारा हथियार कलम
रियाज़त का दिलदार कलम ।

खड़का से ही देते इम्तिहान
जिन से श्रमी हो पाते सफल
जिनसे वह इस भव, जग की
रच देते इतिवृत कलम से ही ।

कलम हमारी ए- प्राणशक्ति
यही हमारी ए – इश्क – यारी
करते हमसब इनका सम्मान
यही हमारे विधाता स्वरूप ।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

199 Views
You may also like:
योग है अनमोल साधना
Anamika Singh
काँटों में खिलो फूल-सम, औ दिव्य ओज लो।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
FATHER IS REAL GOD
KAMAL THAKUR
माटी - गीत
Shiva Awasthi
মিথিলা অক্ষর
DrLakshman Jha Parimal
योगी छंद विधान और विधाएँ
Subhash Singhai
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
खूबसूरत कुआं
साहित्य गौरव
** थोड़े मे **
Swami Ganganiya
मां शारदे
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
तुम्हीं तो हो ,तुम्हीं हो
Dr.sima
दुआओं की नौका...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
माता अहिल्याबाई होल्कर जयंती
Dalveer Singh
آج کی رات ان آنکھوں میں بسا لو مجھ کو
Shivkumar Bilagrami
*नेताजी : एक रहस्य* _(कुंडलिया)_
Ravi Prakash
✍️एक ना हुए साकार✍️
'अशांत' शेखर
🌺परमात्प्राप्ति: स्वतः सिद्ध:,,✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कौन कहता कि स्वाधीन निज देश है?
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेंढक और ऊँट
सूर्यकांत द्विवेदी
समुंदर बेच देता है
आकाश महेशपुरी
✍️✍️उलझन✍️✍️
'अशांत' शेखर
कोई ना हमें छेड़े।
Taj Mohammad
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
Jyoti Khari
गुरूर का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
मुखर तुम्हारा मौन (गीत)
Ravi Prakash
वोट भी तो दिल है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
इश्क़ पर लिखे कुछ अशआर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...