Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 21, 2021 · 1 min read

कलम

रंग रूप और भिन्न आकार
लिखने का मैं करती काम
छोटी बड़ी और रंग बिरंगी
मीनू मेरा कलम है नाम,
प्राचीन ग्रंथों की बनावट में
मैंने ही तो लिखा था श्री राम
मोर पंख से तब बनी थी मैं
ऋषि मुनि लिखते सुबह और शाम,
नाना प्रकार की लकड़ियों से
पुरातन काल में लेखनी बनी
स्याही की दवात में डूबकर
तख्ती और कागज़ पर ढली,
फिर बदली मैं पिन वाले पैन में
स्याही को अंदर समेट कर चली
धीरे धीरे आया चलन बॉल पैन का
अलग अलग रूपों में पली फली,
विस्तार हुआ अब मेरे अस्तित्व का
नवयुग में तो मेरे अनेकों प्रकार
प्रत्येक वर्ग के लिए विभिन्न स्वरूप
लिखें तब आए सबके चेहरों पर बहार।

3 Likes · 1 Comment · 355 Views
You may also like:
शादी से पहले और शादी के बाद
gurudeenverma198
कोई तो जाके उसे मेरे दिल का हाल समझाये...!!
Ravi Malviya
मुबारक हो।
Taj Mohammad
जिन्दगी एक दरिया है
Anamika Singh
मुकद्दर ने
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
✍️पाँव बढाकर चलना✍️
'अशांत' शेखर
पिता
Rajiv Vishal
हो दर्दे दिल तो हाले दिल सुनाया भी नहीं जाता।
सत्य कुमार प्रेमी
दलीलें झूठी हो सकतीं हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गज़ल
Saraswati Bajpai
ज़िंदगी याद का
Dr fauzia Naseem shad
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
चतुर्मास अध्यात्म
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
“ सज्जन चोर ”
DrLakshman Jha Parimal
तमन्नाओं का संसार
DESH RAJ
पिता
Santoshi devi
खुदा के आलावा।
Taj Mohammad
मां के तट पर
जगदीश लववंशी
प्रेयसी पुनीता
Mahendra Rai
एक जवानी थी
Varun Singh Gautam
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
तुम्हारी बात
सिद्धार्थ गोरखपुरी
देखा जो हुस्ने यार तो दिल भी मचल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
"हमारी यारी वही है पुरानी"
Dr.Alpa Amin
कृष्ण पक्ष// गीत
Shiva Awasthi
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
शक्ति राव मणि
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
Ram Krishan Rastogi
गुरू गोविंद
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
टिप् टिप्
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आजकल के अपने
Anamika Singh
Loading...