Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 3, 2021 · 1 min read

कलम से अपनी क्या लिख दूं…

मैंने तो पा मेरे बंशजों को,
मिला अन्याय,
दुख,शोषण,
तिरस्कार मेरे पूर्वजों को,
असहाय पीड़ा,
मेरे महापुरुषों को,
इन सब का हिसाब लिख दूं……..
कलमकार हूं कलम से अपनी मैं क्या लिख दूं ।

देखा मैंने बचपन से,
सभी अगड़ों को पढ़ा – लिखा,
शिक्षा से रही वंचित,
मेरी दादी,बुआ,और मां,
उनके अशिक्षित रहने की,
पीड़ा और दर्द से,
मिले अहसास को खिताब लिख दूं…….
कलमकार हूं कलम से अपनी मैं क्या लिख दूं ।

मेरे समाज को,
मिली प्रताड़ना,
यहां न मिला कभी,
न्याय और सम्मान,
उनके प्रति एक विशेष,
समाज का नज़रिया और,
उनकी दबंगई को बेहिसाब लिख दूं…..
कलमकार हूं कलम से अपनी मैं क्या लिख दूं ।

कलम से रह वंचित कबीर ने,
दुनिया को सात्विक संदेश दिया,
कलम मिली मां सावित्री को,
अठारह स्कूल दिए बनवाए,
एक कलम से बाबा साहेब ने,
देश का संविधान दिया बनाए,
कलम से मिला मुझे क्या इसपर किताब लिख दूं…….
कलमकार हूं कलम से अपनी मैं क्या लिख दूं ।

1 Like · 277 Views
You may also like:
शिक्षित बने ।
Buddha Prakash
इस कहानी को नया इक मोड़ दूँ क्या
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पहाड़ों की रानी
Shailendra Aseem
शम्मा ए इश्क।
Taj Mohammad
✍️खुदगर्ज़ थे वो ख्वाब✍️
'अशांत' शेखर
शांत वातावरण
AMRESH KUMAR VERMA
जिन्दगी की रफ़्तार
मनोज कर्ण
गंगा दशहरा गंगा जी के प्रकाट्य का दिन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सावन में एक नारी की अभिलाषा
Ram Krishan Rastogi
खुदा का वास्ता।
Taj Mohammad
दो पल का जिंदगानी...
AMRESH KUMAR VERMA
कविता : व्रीड़ा
Sushila Joshi
मजदूरों की दुर्दशा
Anamika Singh
दिया और हवा
Anamika Singh
नवाब तो छा गया ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
अपनी कहानी
Dr.Priya Soni Khare
हे शिव ! सृष्टि भरो शिवता से
Saraswati Bajpai
वैसे तो तुमसे
gurudeenverma198
पिता
Vijaykumar Gundal
पत्नियों की फरमाइशें (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
हर रास्ते की अपनी इक मंजिल होती है।
Taj Mohammad
बता कर ना जाना।
Taj Mohammad
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
प्यार का अलख
DESH RAJ
मेहमान बनकर आए और दुश्मन बन गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
दर्द को गर
Dr fauzia Naseem shad
दहेज़
आकाश महेशपुरी
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:38
AJAY AMITABH SUMAN
न कोई चाहत
Ray's Gupta
Loading...