Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2022 · 1 min read

कर्म का मर्म

लोभ मोह मद और क्रोध में
हैं हम सब कैसे फसे हुए l
मेरा तेरा और तेरा मेरा
के नाग पाश में फसे हुए l l

रक्त मांस से बने शरीर को
तुमने सब कुछ मान लिया l
और क्रोध मोह से पोषित कर
अंतरात्मा को मार दिया ll

कुछ नहीं जाना साथ हमारे
ना कुछ खोना पाना है l
जब उड़ जाता प्राण पखेरू
रह जाता बस अफसाना है ll

ना पैसा न शौहरत तेरी
कुछ काम न आना हैl
पूरा जीवन दो गज में सिमटे
जब अंत समय को आना है ll

चाहे जितनी गीता पढ़ लो
चाहे तीरथ धाम तुम कर लो l
यदि कर्म का मर्म नहीं तुम समझे
फिर तो पूरा जीवन झूठा है ll

लगे है अपना सब सच्चा सच्चा
झूठा लगता हर जन है l
ये कलियुग की माया है
जिसने अपना दास बनाया है ll

शास्त्र पढ़े और धर्म को जाने
यही कर्म हमारा है l
मानुष से फिर पशु ना बन जाए
यही जीवन उद्देश्य हमारा है ll

Language: Hindi
Tag: कविता
7 Likes · 9 Comments · 189 Views
You may also like:
*धनवानों का काव्य - गुरु बनना आसान नहीं होता*
Ravi Prakash
बेवफा
Aditya Raj
वो हमें दिन ब दिन आजमाते रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
तुझसे रूठ कर
Sadanand Kumar
माँ की याद
Meenakshi Nagar
मौत बाटे अटल
आकाश महेशपुरी
नागफनी बो रहे लोग
शेख़ जाफ़र खान
तुम साथ अगर देते नाकाम नहीं होता
Dr Archana Gupta
स्लोगन
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
“ प्रतिक्रिया ,समालोचना आ टिप्पणी “
DrLakshman Jha Parimal
नहीं आये कभी ऐसे तूफान
gurudeenverma198
विवश मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
घर
पंकज कुमार कर्ण
*!* अपनी यारी बेमिसाल *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
करता कौन जाने
Varun Singh Gautam
मौसम बदल रहा है
Anamika Singh
नफरतों का इश्क।
Taj Mohammad
कौन बता
Dr fauzia Naseem shad
Advice
Shyam Sundar Subramanian
Power of Brain
Nishant prakhar
भारतीय संस्कृति
Shekhar Chandra Mitra
✍️किसी रूठे यार के लिए...
'अशांत' शेखर
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
अहसास
Vikas Sharma'Shivaaya'
हिंदी दोहा-टोपी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मेरे करीब़ हो तुम
VINOD KUMAR CHAUHAN
Be A Spritual Human
Buddha Prakash
🌺🌻🌷तुम मिलोगे मुझे यह वादा करो🌺🌻🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी गुड़िया
लक्ष्मी सिंह
Loading...