Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#20 Trending Author
May 25, 2022 · 1 min read

कर्म ही पूजा है।

नित करो तुम कर्म अपना
राह खुद अपना बनाओ।
मंजिल तुम्हें छुना है तो
संघर्ष करो आगे बढ़ जाओ।

यह जीवन कठीन डगर हैं
लड़ना है तुम्हें हर दिन।
भिड़ना सीखों बाधाओं से
मंजिल मिलेगा तुम्हें एक न एक दिन।

कोई तुम्हारा साथ दे या न दे
रखों तुम ईश्वर पर अपना विश्वास।
और खुद के अंदर भरो आत्मविश्वास
फिर देखो सफलता तुमसे ज्यादा दूर नहीं है।

प्रयत्न करते रहो सदा तुम
तेरी मेहनत एक दिन रंग लाएँगी।
निराश न हो इतनी जल्दी
यह मेहनत अपना असर दिखाएँगी।

कुछ देर भले हो जाए
पर सफलता तेरे जीवन में
खुशियाँ लेकर आएगी।
यह कर्म है,एक न एक दिन
तुमको फल दें जाएगी।

~अनामिका

4 Likes · 2 Comments · 147 Views
You may also like:
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
कविता में मुहावरे
Ram Krishan Rastogi
पिता
dks.lhp
तुम्हें डर कैसा .....
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
राब्ता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मनुष्यस्य शरीर: तथा परमात्माप्राप्ति:
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
" मायूस हुआ गुदड़ "
Dr Meenu Poonia
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️मैं परिंदा...!✍️
'अशांत' शेखर
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
साँझ ढल रही है
अमित नैथानी 'मिट्ठू' (अनभिज्ञ)
“फेसबूक के सेलेब्रिटी”
DrLakshman Jha Parimal
हाइकु: आहार।
Prabhudayal Raniwal
पत्र की स्मृति में
Rashmi Sanjay
=*बुराई का अन्त*=
Prabhudayal Raniwal
पिता
KAMAL THAKUR
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
दुश्मनी ही तो तुमसे मैं
gurudeenverma198
माँ का प्यार
Anamika Singh
Think
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पायल
Dr. Sunita Singh
नयी बहुरिया घर आयी*
Dr. Sunita Singh
अल्फाज़ ए ताज भाग-4
Taj Mohammad
#किताबों वाली टेबल
Seema Tuhaina
आंखों में तुम मेरी सांसों में तुम हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
O brave soldiers.
Taj Mohammad
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
*जीवन-साथी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पापा मेरे पापा ॥
सुनीता महेन्द्रू
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
Loading...