May 15, 2018 · 2 min read

कर्तव्य

कर्तव्य
“कर्तव्य” शब्द का अभिप्राय उन कार्यों से होता है, जिन्हें करने के लिए हम नैतिक रूप से प्रतिबद्ध होते हैं। इस शब्द से यह बोध होता है कि हम किसी कार्य को अपनी इच्छा, अनिच्छा या केवल बाह्य दबाव के कारण नहीं करते अपितु आंतरिक नैतिक प्ररेणा के कारण करते हैं। विषम परिस्थितयों में भी गंतव्य क़ी ओर बढ़ते जाना ही वास्तविक कर्म होता है।हमारी विशेषताएं जब स्वभाव का अंग हो जाती हैं तभी वो “गुण” कहलाती हैं। मनुष्य जीवन की स्थिरता एवं प्रगति का अस्तित्व एवं आधार शिला है, उसकी कर्तव्य परायणता। यदि हम अपनी जिम्मेदारियों को छोड़ दें और निर्धारित कर्तव्यों की उपेक्षा करे तो फिर ऐसा गतिरोध हो जाय कि प्रगति एवं उपलब्धियों की बात तो दूर मनुष्य की तरह जीवन यापन कर सकना भी सम्भव न रहें।परिस्थितियों के अनुसार किसी को अपनाना या त्याग देना हमारा सबसे बड़ा अवगुण होता है।शीतलता चंदन का गुण है,जबकि चंदन वृक्ष पर सदैव विषैले सर्प लिपटे रहते हैं किंतु वह अपने सद्गुणों पर स्थिर रहता है तो हम मनुष्य सृष्टि की सर्वश्रेष्ठ रचना होते हुए भी अपने दैविक गुणों पर दृढ नही रह पाते, जिसे सृष्टि रचयिता ने बुद्धि विवेक से पुरस्कृत कर विशिष्ट बनाया है।कदाचित हम दोगलेपन में इतना रम गए हैं और यह समझने में असहज हैं कि आचार-विचार की शुद्धता ही जीवन का मुख्य उद्देश्य एवं उपलब्धि है।दया, परोपकार, क्षमा, साहचर्य और दान जैसे पंच तत्व हमारी रचना में ही समाहित हैं और उन पंच तत्वों का प्रतिनिधित्व करते हैं जिनसे ये मानव शरीर निर्मित हुआ है।
वास्तव में मानवता ही नैतिकता का आधार है।सभी नैतिक मूल्य सत्य अहिंसा प्रेम सेवा शांति का मूल मानवता ही है।आत्मा के प्रति हमारी जिम्मेदारी है। ईश्वर के प्रति भी। उन्हीं के कारण हमारा अस्तित्व है। आवश्यक है हम आत्मा की आवाज सुनें ओर परमात्मा द्वारा निर्धारित कर्तव्यों का पालन करते हुए मानव जीवन को सार्थक बनाने के लिए प्रयत्नशील रहे।
-नीलम शर्मा

1 Like · 121 Views
You may also like:
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
बुध्द गीत
Buddha Prakash
कामयाबी
डी. के. निवातिया
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
ठंडे पड़ चुके ये रिश्ते।
Manisha Manjari
इश्क ए दास्तां को।
Taj Mohammad
यूं काटोगे दरख़्तों को तो।
Taj Mohammad
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
तो पिता भी आसमान है।
Taj Mohammad
सतुआन
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
एक वीरांगना का अन्त !
Prabhudayal Raniwal
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग३]
Anamika Singh
सोंच समझ....
Dr. Alpa H.
ग़ज़ल
kamal purohit
इश्क में तुम्हारे गिरफ्तार हो गए।
Taj Mohammad
💐💐धड़कता दिल कहे सब कुछ तुम्हारी याद आती है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ऊपज
Mahender Singh Hans
तेरी आरज़ू, तेरी वफ़ा
VINOD KUMAR CHAUHAN
ईद
Khushboo Khatoon
राम ! तुम घट-घट वासी
Saraswati Bajpai
**अशुद्ध अछूत - नारी **
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शून्य से अनन्त
D.k Math
उम्मीदों के परिन्दे
Alok Saxena
【20】 ** भाई - भाई का प्यार खो गया **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मयंक के जन्मदिन पर बधाई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
चिड़ियाँ
Anamika Singh
यूं हुस्न की नुमाइश ना करो।
Taj Mohammad
🌺🌺प्रेम की राह पर-9🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...