Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

कर्ण वचन

प्रभायुक्त इस मुखमंडल पर
विकलता क्यों छाई है,
खामोशी का कारण क्या है
जो इतना घबराई है।
बता माते क्या तेरी है वेदना,
जो आज सुतपुत्र के पास
आयी है।

तुम सूतपुत्र नही कौन्तेय हो
मेरे लाल,
तेरा अस्तित्व इस आसमान
से भी है बिकराल।
प्रथम पुत्र हो तुम मेरे नही
हो तुम राधेय,
कौमार्य अवस्था में तुझे जना
पिता तेरे है सूर्यदेव।

हे ! दुर्धर्ष पुत्र सांसारिक मर्यादा
वश मैंने अपने से तुझे दूर किया,
लोक -लज्जा के भय वश मुझसे
घोर अपराध हुआ।
आज तेरी जननी आयी है तेरे द्वार,
देने तुझें हस्तिनापुर की राजगद्दी
का उपहार,

छोड़ दे साथ उस कपटी दुर्योधन का,
पकड़ ले तू मार्ग सत्य-अहिंसा का।
जैसे धरती पर नही है बलराम-कृष्ण
जैसा कोई बलवान,
तुम अर्जुन अगर मिलें तो नही होगा
कोई योद्धा तुम्हारे समान।

रंगभूमि में सूतपुत्र कहके किया
गया मेरा निरादर,
उस वक़्त जागृत क्यों नही हुआ
आपका ममत्व।
तुम कहती हो छोड़ दूँ साथ दुर्योधन का,
कैसे भूल जाऊँ फ़र्ज़ मित्र धर्म का।

जिसनें पल भर में मुझें बनाया राजा
अंगदेश का,
मर कर भी नही उतार सकता मैं ऋण
सुयोधन का।
अगर छोड़ दूँ इस संकट की
घड़ी में दुर्योधन का साथ,
सारे जग में होगा तेरे कर्ण का
उपहास।

माते तेरे पांच पुत्र जीवित रहेगें
इस धर्म युद्ध में,
मेरी होगी लड़ाई तुम्हारे वीर
अर्जुन से।
कर्ण मरे या मरे अर्जुन तेरे पांच
पुत्र रहेंगे शेष,
रणभूमि में आज तुमकों वचन
देता हैं राधेय।

(स्वरचित) ………आलोक पांडेय गरोठ वाले

5 Likes · 6 Comments · 394 Views
You may also like:
💐💐स्वरूपे कोलाहल: नैव💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
दिल तुम्हें
Dr fauzia Naseem shad
हादसा
श्याम सिंह बिष्ट
$दोहे- हरियाली पर
आर.एस. 'प्रीतम'
'कई बार प्रेम क्यों ?'
Godambari Negi
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
" सिर का ताज हेलमेट"
Dr Meenu Poonia
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
जीवन इनका भी है
Anamika Singh
✍️दिल में ही रहता हूं✍️
'अशांत' शेखर
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
हमारे जैसा कोई और....
sangeeta beniwal
परशुराम कर्ण संवाद
Utsav Kumar Aarya
" हसीन जुल्फें "
DESH RAJ
✍️किसान के बैल की संवेदना✍️
'अशांत' शेखर
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
अर्धनारीश्वर की अवधारणा...?
मनोज कर्ण
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
*माँ छिन्नमस्तिका 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
पुकार सुन लो
वीर कुमार जैन 'अकेला'
✍️"हैप्पी बर्थ डे पापा"✍️
'अशांत' शेखर
यूं भी तेरी उलफत का .....
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
कोशिश करो
Dr fauzia Naseem shad
परिवार
सूर्यकांत द्विवेदी
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मोहब्बत कुआं
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
कश्ती को साहिल चाहिए।
Taj Mohammad
मेरे कच्चे मकान की खपरैल
Umesh Kumar Sharma
पिता
Dr.Priya Soni Khare
Loading...