Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2016 · 1 min read

करे समर्थन वो गद्दार….

आरक्षण संहारक नारे…

विघटनकारी घातक वार, राजनीति का यह हथियार..
करे देश को जो कमजोर. आरक्षण वह जनरल खोर..
सच्चे-भले हुए बेकार. छल-प्रपंच यदि बेड़ा पार..
लुटे सवर्णों का संसार. दे अयोग्य को ही उपहार..
चतुराई से खेले खेल. सह-अनुभूति न करिए मेल.
न हो जातिगत मेरे यार. न ही आर्थिक हो आधार..
बाँट रहा जहरीला, त्याज्य. नहीं चलेगा ऐसा राज्य..
तड़पे जनरल भूखा भाई. आरक्षित को मिले मलाई..
आरक्षित ही होते मान्य. कुंठित इससे जनसामान्य..
है अन्याय असह्य अतिरेक. फाँसी झूले युवा अनेक..
डरे स्वार्थी औ कमजोर. नहीं चलेगा उनका जोर..
नहीं देश से जिसको प्यार. करे समर्थन वो गद्दार..
नक़ल मारती क्योंकर डंक. मिलें योग्यता को ही अंक..
गुणवत्ता का हो फरमान. सबकी शिक्षा एक समान..
निर्धन पाये सुविधा बीस. मुफ्त हास्टल, कोचिंग. फीस..
बेनकाब अब है बेदर्द. नहीं गरीबों का हमदर्द..
उन्मादित आरक्षित आज. ख़त्म करें आरक्षण राज..
रद्द करो अब इसका केस. तभी बराबर की हो रेस,.
करे हमेशा प्रतिभा भक्षण. ख़त्म करें ऐसा आरक्षण..
नहीं न्याय के यह अनुकूल. इसको कर दो नष्ट समूल..
रहे न आरक्षण का नाम. कर दो इसका काम तमाम..

–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Comments · 253 Views
You may also like:
✍️ज़ख्मो का स्वाद✍️
'अशांत' शेखर
दुर्घटना का दंश
DESH RAJ
बुढापा
सूर्यकांत द्विवेदी
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
आवो हम इस दीपावली पर
gurudeenverma198
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
Ravi Prakash
अनूठी दुनिया
AMRESH KUMAR VERMA
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
जीवन क्षणभंगुरता का मर्म समझने में निकल जाती है।
Manisha Manjari
ख्याल में तुम
N.ksahu0007@writer
तुम हो फरेब ए दिल।
Taj Mohammad
गीता के स्वर (17) श्रद्धा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मोमबत्ती जब है जलती
Buddha Prakash
मेरे पिता
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
"फल"
Dushyant Kumar
फ्यूज बल्ब क्या होता है ?
Rakesh Bahanwal
प्रेमिका.. मेरी प्रेयसी....
Sapna K S
इरादा
Shivam Sharma
मिसाल और मशाल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
# कभी कांटा , कभी गुलाब ......
Chinta netam " मन "
दीया और अंधेरा
Shekhar Chandra Mitra
समझना आपको है
Dr fauzia Naseem shad
हाँथो में लेकर हाँथ
Mamta Rani
पहले तेरे हाथों पर
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
" शरारती बूंद "
Dr Meenu Poonia
हिंदी हमारी शान है
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
poem
पंकज ललितपुर
அழியக்கூடிய மற்றும் அழியாத
Shyam Sundar Subramanian
Loading...