Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2023 · 1 min read

करें आराधना मां की, आ गए नौ दिन शक्ति के।

करें आराधना मां की, आ गए नौ दिन शक्ति के।
सकल विश्व में आन बिराजी, नौ दिन भक्ति के।।
सौम्य रूप है मां दुर्गा का, जग को हैं भरती ।
विकट रूप में मां काली, जग को हैं हरती ।।
श्रद्धा भाव से जो भी मां के,दर पर जाता है।
कलुष पाप मिट जाते, मां के दर्शन पाता है।।
हर लो सब पाप ह्रदय के, नौ दिन तृप्ति के।
सकल विश्व में आन विराजी, नौ दिन भक्ति के।।
कितने मां के रूप मनोहर, कितने मां के नाम।
कहीं बिराजी मैदानों में, कहीं हैं ऊंचे धाम।।
हरती सबकी चिंता सारी, चिंतपूर्णी मां।
करें मनोरथ सबके पूरे, वैष्णो धाम की मां।।
बावन पीठ बनें माता के, तेजपुंज है शक्ति के।
सकल विश्व में आन बिराजी, नौ दिन भक्ति के।।
उमेश मेहरा
गाडरवारा ( एम पी)

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 177 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
Awadhesh Kumar Singh
माता सिद्धि-प्रदायिनी ,लिए सौम्य मुस्कान
माता सिद्धि-प्रदायिनी ,लिए सौम्य मुस्कान
Ravi Prakash
"ये याद रखना"
Dr. Kishan tandon kranti
"मैं" का मैदान बहुत विस्तृत होता है , जिसमें अहम की ऊँची चार
Seema Verma
Ek ladki udas hoti hai
Ek ladki udas hoti hai
Sakshi Tripathi
मौत
मौत
नन्दलाल सुथार "राही"
रास्ते
रास्ते
Dr fauzia Naseem shad
तेरे इश्क़ में
तेरे इश्क़ में
Gouri tiwari
💐प्रेम कौतुक-365💐
💐प्रेम कौतुक-365💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिंदगी और उलझनें, सॅंग सॅंग चलेंगी दोस्तों।
जिंदगी और उलझनें, सॅंग सॅंग चलेंगी दोस्तों।
सत्य कुमार प्रेमी
टुलिया........... (कहानी)
टुलिया........... (कहानी)
लालबहादुर चौरसिया 'लाल'
साये
साये
shabina. Naaz
कुछ लोग बड़े बदतमीज होते हैं,,,
कुछ लोग बड़े बदतमीज होते हैं,,,
विमला महरिया मौज
■ लघुकथा
■ लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
कहानी *सूनी माँग* पार्ट-1 - लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
कहानी *सूनी माँग* पार्ट-1 - लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
Radhakishan Mundhra
शृंगार छंद
शृंगार छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आदान-प्रदान
आदान-प्रदान
Ashwani Kumar Jaiswal
कैसे कांटे हो तुम
कैसे कांटे हो तुम
Basant Bhagwan Roy
पंक्षी पिंजरों में पहुँच, दिखते अधिक प्रसन्न ।
पंक्षी पिंजरों में पहुँच, दिखते अधिक प्रसन्न ।
Arvind trivedi
ऑनलाइन पढ़ाई
ऑनलाइन पढ़ाई
Rajni kapoor
हम जितने ही सहज होगें,
हम जितने ही सहज होगें,
लक्ष्मी सिंह
बुलंद हौंसले
बुलंद हौंसले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
2241.💥सबकुछ खतम 💥
2241.💥सबकुछ खतम 💥
Dr.Khedu Bharti
दुनिया दिखावे पर मरती है , हम सादगी पर मरते हैं
दुनिया दिखावे पर मरती है , हम सादगी पर मरते हैं
कवि दीपक बवेजा
भारत भूमि में पग पग घूमे ।
भारत भूमि में पग पग घूमे ।
Buddha Prakash
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ये छुटपुट कोहरा छिपा नही सकता आफ़ताब को
ये छुटपुट कोहरा छिपा नही सकता आफ़ताब को
'अशांत' शेखर
दृढ़ संकल्पी
दृढ़ संकल्पी
डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
कैसे कहें हम
कैसे कहें हम
Surinder blackpen
संसद की दिशा
संसद की दिशा
Shekhar Chandra Mitra
Loading...