Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

करवाचौथ

सयाली छंद—— करवाचौथ

1- करवाचौथ
पूजन को
सजी है थाल
बनाई है
चौक ॥

2- दो
वरदान माता
सुखी रहे जीवन
अमर हो
सुहाग ॥

3- सजाये
हैं हाथ
मेहँदी से मैंने
तुम्हारे प्यार
में ॥

4- करके
सोलह श्रृंगार
उतारूँ आरती तुम्हारी
जनम-जनम
सजना ॥

5- तुमको
निहारती हूँ
चाँद में प्रिय
उपवास तोड़ने
को ॥

6- चाँद
सा शीतल
बने हमारा प्रेम
चहुँ ओर
चमके ॥

7- करूँ
पूजन मैं
बढ़े आयु तुम्हारी
प्रार्थना है
हमारी ॥

गुंजन गुप्ता
प्रतापगढ़ उ.प्र.

1 Like · 217 Views
You may also like:
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
कर्म का मर्म
Pooja Singh
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
देश के नौजवानों
Anamika Singh
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मर गये ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...