Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

कमर बांध लो हिंदुस्तानी

कोरोना पर एक रचना :-
????????
आधार छंद – ‘ आल्ह /बीर छंद ‘
विधान – 31 मात्रा = 16 , 15 पर यति,
अंत-आर,आज व आंट
*******************************

“कमर बांध लो हिन्दुस्तानी!”
*********************

कमर बांध लो हिन्दुस्तानी,कोरोना ने दी ललकार।
अगर करी ना तुमने हिम्मत,कोरोना की हो जयकार।।

लेना होगा ठ़ोस कदम अब,वरना कर दे बंटाधार।
तब ही सुलभ ह़ोयगा जीना,घातक है इसका प्रहार।।

सभी देश इसके पीड़ित हैं,मचा बहुत ही हाहाकार।
घोर विपत्ती से अब कैसे,छूटेगा इससे संसार।।

साफ सफाई रखनी होगी, नैया होगी तब ही पार।
भूल हुई हमसे गर कोई,सूख जायेगी भरी बहार।।

चुम्मा चांटी हाथ मिलाना,इनसे रखना दूरी आज।
दूर रहें बाह्य कर्मों से,इनसे आयें नित ही बाज।।

मेला ठेला माॅल-टाॅल से,खायें नहीं वहां से चांट।
कोरोना का जहर वरन तब,कई भाग में देगा बांट।।

??अटल मुरादाबादी✍️?

147 Views
You may also like:
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गुमान
AJAY AMITABH SUMAN
सास और बहु
Vikas Sharma'Shivaaya'
ख़्वाहिश है तेरी
VINOD KUMAR CHAUHAN
इन्सान
Seema 'Tu haina'
भ्राजक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चले आओ तुम्हारी ही कमी है।
सत्य कुमार प्रेमी
जख्म
Anamika Singh
रहे न अगर आस तो....
डॉ.सीमा अग्रवाल
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
मेरी नींदों की
Dr fauzia Naseem shad
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
मेरा साया
Anamika Singh
✍️पिता:एक किरण✍️
'अशांत' शेखर
पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक समारोह...
Ravi Prakash
चंद दोहे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
कुछ दुआ का
Dr fauzia Naseem shad
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
कितने रूप तुम्हारे देखे
Shivkumar Bilagrami
सेमल
लक्ष्मी सिंह
कभी जमीं कभी आसमां बन जाता है।
Taj Mohammad
मैं हासिल नही हूं।
Taj Mohammad
✍️चाबी का एक खिलौना✍️
'अशांत' शेखर
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
रेत   का   घर 
Alok Saxena
आंखों में जब
Dr fauzia Naseem shad
खुद को कभी न बदले
Dr fauzia Naseem shad
पर्यावरण
Vijaykumar Gundal
मेरे गाँव का अश्वमेध!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
Loading...