Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-199💐

कभी सबेरे आवाज़ दूँ तो एतिबार की कहना,
फिर शाम को ही किसी मुलाक़ात की कहना।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
64 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
मोह लेगा जब हिया को, रूप मन के मीत का
मोह लेगा जब हिया को, रूप मन के मीत का
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कुछ बातें ईश्वर पर छोड़ दें
कुछ बातें ईश्वर पर छोड़ दें
Sushil chauhan
सनम  ऐसे ना मुझको  बुलाया करो।
सनम ऐसे ना मुझको बुलाया करो।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
असफल कवि
असफल कवि
Shekhar Chandra Mitra
जरूरी नहीं राहें पहुँचेगी सारी,
जरूरी नहीं राहें पहुँचेगी सारी,
Satish Srijan
औरत
औरत
shabina. Naaz
*भरत चले प्रभु राम मनाने (कुछ चौपाइयॉं)*
*भरत चले प्रभु राम मनाने (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
हम रंगों से सजे है
हम रंगों से सजे है
'अशांत' शेखर
"ब्रेजा संग पंजाब"
Dr Meenu Poonia
💐प्रेम कौतुक-332💐
💐प्रेम कौतुक-332💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बाबूजी।
बाबूजी।
Anil Mishra Prahari
मुझे आशीष दो, माँ
मुझे आशीष दो, माँ
gpoddarmkg
युवा भारत को जानो
युवा भारत को जानो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
Buddha Prakash
"सुर्खियाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
आप मेरे सरताज़ नहीं हैं
आप मेरे सरताज़ नहीं हैं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
शिकवा, गिला ,शिकायतें
शिकवा, गिला ,शिकायतें
Dr fauzia Naseem shad
हर मौसम में हर मौसम का हाल बताना ठीक नहीं है
हर मौसम में हर मौसम का हाल बताना ठीक नहीं है
कवि दीपक बवेजा
हर हाल में खुश रहने का सलीका तो सीखो ,  प्यार की बौछार से उज
हर हाल में खुश रहने का सलीका तो सीखो , प्यार की बौछार से उज
DrLakshman Jha Parimal
# लोकतंत्र .....
# लोकतंत्र .....
Chinta netam " मन "
कोई ज्यादा पीड़ित है तो कोई थोड़ा
कोई ज्यादा पीड़ित है तो कोई थोड़ा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
,...ठोस व्यवहारिक नीति
,...ठोस व्यवहारिक नीति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
होली का त्यौहार
होली का त्यौहार
Kavita Chouhan
दांतो का सेट एक ही था
दांतो का सेट एक ही था
Ram Krishan Rastogi
शायरी 1
शायरी 1
SURYAA
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
नेताम आर सी
अभी तक हमने
अभी तक हमने
*Author प्रणय प्रभात*
हमे यार देशी पिला दो किसी दिन।
हमे यार देशी पिला दो किसी दिन।
विजय कुमार नामदेव
जिंदगी का सफर बिन तुम्हारे कैसे कटे
जिंदगी का सफर बिन तुम्हारे कैसे कटे
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...