Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#17 Trending Author

कभी मुस्करा दो

*** कभी मुस्करा दो (ग़ज़ल) **
**** 122 122 122 12 ****
**************************

खुशी से कभी मुस्करा दो जरा,
अलख प्यार का तुम जगा दो जरा।

गिला क्या तनिक तो बताओ हमें,
खफा हो सनम क्यों बता दो ज़रा।

कभी जान का जां फिक्र तो करो,
नज़र प्यार की तो मिला दो ज़रा।

किसी मोड़ पर भी नहीं हम गलत,
गलत हैं अगर तो सज़ा दो ज़रा।

भली भांति भी भाव भ्रमित हुए,
मगर ख्वाब लिप्सा तपा दो ज़रा।

गमों के जलज को हटाओ जरा,
अमन की हवा को चला दो ज़रा।

कहे बात सीरत सदा सच यहाँ,
मग़र ज़िंदगी में वफ़ा दो ज़रा।
***************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

1 Like · 197 Views
You may also like:
अपना दिल
Dr fauzia Naseem shad
खेल-कूद
AMRESH KUMAR VERMA
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
किताब
Seema Tuhaina
जगाओ हिम्मत और विश्वास तुम
gurudeenverma198
✍️दो और दो पाँच✍️
"अशांत" शेखर
मुझसे बचकर वह अब जायेगा कहां
Ram Krishan Rastogi
मेरी आँखे
Anamika Singh
स्वतंत्रता की सार्थकता
Dr fauzia Naseem shad
*सुप्रभात की सुगंध*
Vijaykumar Gundal
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
ज्यादा रोशनी।
Taj Mohammad
पिता बना हूं।
Taj Mohammad
इंतजार
Anamika Singh
एक था ब्लैक टाइगर रविन्द्र कौशिक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️जिंदगी क्या है...✍️
"अशांत" शेखर
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बहुत हैं फायदे तुमको बतायेंगे मुहब्बत से।
सत्य कुमार प्रेमी
उसका नाम लिखकर।
Taj Mohammad
अगर तुम सावन हो
bhandari lokesh
नदी का किनारा
Ashwani Kumar Jaiswal
एक पत्र बच्चों के लिए
Manu Vashistha
ज़िंदगी मयस्सर ना हुई खुश रहने की।
Taj Mohammad
कल्पना
Anamika Singh
तब मुझसे मत करना कोई सवाल तुम
gurudeenverma198
*प्रखर राष्ट्रवादी श्री रामरूप गुप्त*
Ravi Prakash
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
आदतें
AMRESH KUMAR VERMA
ऐ जिंदगी कितने दाँव सिखाती हैं
Dr.Alpa Amin
खेलता ख़ुद आग से है
Shivkumar Bilagrami
Loading...